जानिए सेक्स सीडी कांड का पूरा मामला

कर्नाटक की राजनीति में सामने आए सेक्स सीडी कांड ने बवाल मचा दिया है। इस सीडी में कथित तौर पर कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली एक महिला के साथ नजर आ रहे हैं।

०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow
०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow

 

सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश कल्लाहल्ली ने सीडी जारी करते हुए आरोप लगाया कि मंत्री जारकीहोली ने महिला का नौकरी दिलाने के नाम पर यौन शोषण किया।

 

मामले में हंगामा बढ़ते देख मंत्री रमेश जारकीहोली बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

 

इंडिया टुडे के अनुसार महिला के परिजनों ने न्याय की मांग को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता और नागरिक हक्कू होरता समिति के अध्यक्ष दिनेश कल्लाहल्ली से संपर्क किया था।

 

परिजनों का आरोप है कि मंत्री जारकीहोली ने कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (KPTCL) में नौकरी दिलाने के नाम पर महिला का यौन उत्पीड़न किया। इसके बाद वह मुकर गए।

 

इसको लेकर उन्होंने एक सीडी भी जारी की है। इसे पुलिस आयुक्त को सौंपा जाएगा।

 

मामले में कल्लाहल्ली ने मंगलवार को पुलिस आयुक्त कमल पंत से मुलाकात की थी। उन्होंने कब्बन पार्क पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करने के लिए कहा गया है।

 

उन्होंने कहा कि वह इस संबंध में वकील से भी मिले हैं। वकील ने पुलिस आयुक्त के बताए अनुसार आगे की कार्रवाई की सलाह दी है। ऐसे में इस इस सीडी को जल्द ही पुलिस आयुक्त को सौंपा जाएगा।

 

उन्होंने कहा कि महिला के परिजन मामले में सख्त कार्रवाई कराना चाहते हैं।

 

इस सेक्स सीडी के सामने आने के बाद कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को तुरंत रमेश जारकीहोली का इस्तीफा लेना चाहिए और इस मामले में FIR दर्ज करानी चाहिए। यह सरकार सबसे भ्रष्ट है।

 

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने कहा कि वीडियो में मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री भ्रष्ट हैं। उन्हें इसका जवाब देना होगा। गेंद अब उनके पाले में है।

 

मामले के तूल पकड़ने के बाद मंत्री जारकीहोली ने बुधवार को मंत्री पद से इस्तीफा देते हुए अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को खारिज किया है।

 

उन्होंने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा, “मुझ पर लगे आरोपों का सच्चाई से कोई वास्ता नहीं है। मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। मैं नैतिक आधार पर इस्तीफा दे रहा हूं। मैं निर्दोष होकर सामने आऊंगा।”

 

इससे पहले मंगलवार को उन्होंने इसे राजनीतिक साजिश करार देते हुए सीडी को फर्जी बताया था।

 

इस मामले पर केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा, “हम किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकते, हमें सच्चाई जानने की जरूरत है। अगर यह सच है, तो यह शर्मनाक है। हम नेताओं को नैतिक रूप से सही होने की जरूरत है। यही भाजपा की नीति है।”

 

कर्नाटक के गृह मंत्री बी बोम्मई ने कहा, “महिला की शिकायत के आधार पर कार्रवाई हो रही है। कानून के अनुसार मामले जांच की जा रही है। रमेश जारकीहोली पर हमारी पार्टी फैसला लेगी।”

 

मामले में कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री सीएन अश्वथ नारायण ने कहा, “हमने ऐसे वीडियो के पीछे छल-कपट, प्रतिशोध, हनीट्रैप, ब्लैकमेल जैसे मामले देखे हैं। जांच के बाद सच्चाई सामने आएगी। उसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

 

उन्होंने आगे कहा, “सच्चाई को सामने आने दीजिए। सच्चाई के सामने आए बिना मामले में किसी भी प्रकार की टिप्पणी करना सही नहीं होगा। स्पष्ट नहीं हो पाया है कि शिकायत दुर्भावना के आधार पर की गई है या नहीं।”

 

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!