भगवान शिव की झाकी निकाल, मेहदार महोत्सव का हुआ अगाज

भगवान शिव की झाकी निकाल, मेहदार महोत्सव का हुआ अगाज

श्रीनारद मीडिया, शशि उपाध्याय, सिसवन (सीवान):

शिव की सेना देख रोमाचिंत हुए दर्शक.

झाकी संग दर्शको ने की कमलदाह सरोवर की परिक्रमा .

सिसवन (सिवान) अध्यात्म की उर्बर भूमि व भगवान भोलेनाथ की नगरी मेंहदार में शिव की झाकी निकालने की साथ ही बहूप्रतिक्षित मेंहदार महोत्सव का आगाज हुआ, बनारस से पधारे गीतांजली टीम के करीब दो दर्जन कलाकार भगवान शिव पार्वती, राधा कृष्णा, हनुमान, शिवसेना, का रूप अखतियार कर आधा दर्जन सु-सजित बाहनो पर स्वार हो मुख्य मंदिर से निकली व कमलदाह के सरोवर के किनारे होते हुए. भदौर गांव, तत्पशचात चैनपुर रसुलपुर मुख्य मार्ग होते हुए, लवारी मोड़ पहुंची तब, झाकी विविध रूपों का प्रर्दशन करते हुए हनुमान गढ़ी पहुची, झाकी की आगे,घुड़स्वार दल व उसके पिछे, बजते अंग्रेजी बैण्ड व देशी ड़फडा व हुड़का की धुन, फिजा को मनमोहक बना रहे थे। की आगे मंदिर के पुजारीयों ने पैदल चल झाकी प्रस्तुत करने वाले कलाकारों का उत्सा बर्धक कीया।
झाकी को देखने आये दर्शक, शंकर जी की सेना की रुप में बने भूत- पिचासों, के रूपों को देख रोमाचिंत हो उठे। इस दौरान पुरा महोल भक्तिमय हो चला।

मेहदार- हवा के झोको से गिरा पंडाल के मुख्य गेट।
बाल-बाल बचे दर्शक-
तेज हवा के झोको के दबाव में आकर महोत्सव के लिए बने पंडाल का मुख्य द्वार दोपहर. में गिर पड़ा। यह सुखद संयोग रहा की गेट से थोड़ी दुर पर दर्शक खडे थे। यदि दर्शक नजदीक होते तो उन्हें गम्भीर चोटे आ सकती थी, बरहाल, कारीगर, धवस्त गेट को सुखद करने में जुट गये।
कारीगर पंकज र्न बताया की उद्‌घाटन के पूर्व गेट को ठिक कर लिया जायेगा।

Leave a Reply