मडई के घर होने पर भी नहीं मिला अावास तो डीएम से किया शिकायत

मडई के घर होने पर भी नहीं मिला अावास तो डीएम से किया शिकायत

श्रीनारद मीडिया, लक्ष्‍मण सिंह, सिरौलीगौसपुर बाराबंकी (यूपी):

बाबू सिर्फ एक मड़हा रखा आहै वहै महिया चूल्हा वासन अऊर लड़िका बच्चन का लईकै गुजर बसर करित आहै सबके भैय्या छपरा मड़हा हटिगे पक्के घर बनिगे हम इनका वाट नई देहेन वहै हमका कॉलोनी नाहिन मिली जांच अऊबौ किहिस वा लीपि पोति का चली गय।

यह करुण व्यथा ग्राम रसूलपुर निवासी राजेंद्र की पत्नी माधुरी की है जो अपने पति व बच्चों के साथ घर के स्थान पर रखें एक छप्पर नुमा मड़हे में रहकर अपने परिवार के साथ गुजर बसर कर रही हैं । जिस के संबंध में उसके पति ने जिलाधिकारी को एक शिकायती प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई थी जिसमें चुनावी रंजिश दलित व निर्धन परिवार पर भारी पड़ रही है।

जिलाधिकारी को लिखे गए पत्र में ग्राम रसूलपुर निवासी दलित राजेंद्र पुत्र राधेलाल ने कहा है कि उन्होंने 8 मई को आवास हेतु जिलाधिकारी को ऑनलाइन आवेदन किया था कि उनके पास न तो कृषि योग्य भूमि है न ही पक्का मकान है ।उनकी पत्नी माधुरी प्रधानमंत्री आवास पाने की पात्रता रखती है इस पर जांच टीम आने पर चुनावी रंजिश के चलते ग्राम प्रधान ने ग्राम पंचायत सचिव से सांठ गांठ करके पात्रता निरस्त करवाते हुए मनगढ़ंत रिपोर्ट लगवा दिया । जिस के संबंध में उन्होंने पुनः जिलाधिकारी को शिकायती पत्र भेजकर जांच किए जाने की मांग किया है।