आम से पहले, जरा हमे भी पहचान लीजिये

आम से पहले, जरा हमे भी पहचान लीजिये
मंजर हूँ मैं, आंधी, तूफानो,से लड़ा करती हूँ।
धूप हो या वारिश, बस आप ये जान लीजिये,
सब कुछ सह टिकोलो को आम के लिए बड़ा करती हूँ।

०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow
०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow

खुबसूरती की भी मिशाल बनकर पेड़ों की शान होती हूँ
कुछ पल ही सही हर आँखो की खुबसूरत मेहमान होती हूँ।
जननी ही नही मैं पंछियो की आये दिन जलपान होती हूँ।
हर जुल्म -ए-सितम सहने वाली मैं यूँ ही बेजुबान होती हूँ।

जी हाँ, मैं वही मंजर हूं जो आम की जन्म दात्री होती हैं।
अटल और अडिग रहती हूँ, चाहे दिवस या रात्री होती हैं।
अनुपम अंदाज युक्त अक्सर हमारे यहाँ विश्राम यात्री होती है।
चंद पलो के लिए ही हमारी भूमिका बतौर निर्मात्री होती हैं।
साभार- डॉ अरविंद आनंद
9709810468

 

यह भीपढ़े

सिसवन:कचनार पंचायत के भावी मुखिया प्रत्याशी अजीत उपाध्याय ने पंचायत वासियों को दी होली की शुभकामना

चाय बनाने के बाद बची हुई चायपत्ती को न फेंके करे  आठ तरीके से उपयोग 

Raghunathpur:नरहन के अग्निपीडितो को मिली सहायता राशि

Leave a Reply

error: Content is protected !!