कड़ाके की सर्दीयो से पहले सीएम योगी ने दिया सभी रैनबसेरों में आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने का निर्देश

डीएम, एसपी, एसएसपी को रिसीव करना होगा सरकारी नंबर पर आने वाली हर कॉल, मुख्यमंत्री खुद करेंगे औचक जांच

श्रीनारद मीडिया ब्यूरो प्रमुख / सुनील मिश्रा वाराणसी (यूपी)

वाराणसी/ ठंड के मौसम को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रैनबसेरों पर सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए जिला प्रशासन को निर्देशित कर दिया है। मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश के सभी जनपद के जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी सहित सभी उपजिलाधिकारी और वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देशित किया है कि क्षेत्र में भ्रमण कर यह सुनिश्चित करें कि कोई भी व्यक्ति खुले में न सोए।विभिन्न जनपदों में अब तक 984 रैन बसेरे स्थापित कर पोर्टल पर पंजीकृत 616 रैन बसेरों की जीपीएस लोकेशन की मैपिंग की गई है। सीएम ने निर्देशित किया है कि रैनबसेरों में सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ ही साथिया भी सुनिश्चित किए जाएं कि इनका उपयोग जरूरतमंद करें। रैनबसेरा मैं सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए जाएं।रैनबसेरों में कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही रैनबसेरों में सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान दिया जाए। बता देगी शीतलहर और ठंड से बचने के लिए व्यक्ति नजदीकी रैन बसेरों को आसानी से खोज ले इसके लिए रैनबसेरों का वितरण ऑनलाइन कराने की व्यवस्था की गई है रेलवे चोरों की जियो टैगिंग के साथ ही इन्हें गूगल मैप पर भी दर्ज किया जाएगा। सीएम ने आदेश दिया है कि जिला अधिकारियों और पुलिस कप्तानों को अपने सरकारी मोबाइल नंबर पर आने वाली हर काल को रिसीव करनी होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी जिलों के डीएम, एसपी और एसएसपी को निर्देश दिया है कि जनसमस्याओं को पूरी गंभीरता से लिया जाए। कार्यालय में कोई भी फरियादी निराश होकर न लौटे। डीएम और पुलिस कप्तान अपनी सीयूजी नंबर पर आने वाली हर फोन कॉल का जवाब जरूर दें। यह आदेश तत्काल प्रभाव से अमल में लाना होगा। अगले 1 सप्ताह में मुख्यमंत्री कार्यालय से फोन कर अधिकारियों की कार्यशैली की हरकत की पड़ताल भी की जाएगी। सीएम योगी ने गैर जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने के लिए उच्च अधिकारियों को भी निर्देशित किया है।जनसमस्याओं के त्वरित और प्रभावी निदान के संबंध में जारी मुख्यमंत्री के ताजा आदेश में कहा गया है कि जिले में तैनात अधिकारी अपने कैंप ऑफिस की अपेक्षा कार्यालय में अधिक से अधिक समय दें कोई भी व्यक्ति जो अपनी समस्या लेकर आता है उसे अमर्यादित व्यवहार ही जाए। उनकी समस्या को सुने और समाधान के लिए उचित कदम उठाएं।सीएम योगी ने कहा है कि सरकार जनता के लिए है ऐसे में जनता की सूखा उनकी समस्याओं का समाधान सरकार की प्राथमिकता में है। जीरो ट्रेलरेस देश की नीति के साथ अधिकारीगण अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करें। मुख्यमंत्री कार्यालय से डीएम, एसपी और एसएसपी की कार्यशैली की सतत निगरानी भी की जाएगी।

shrinarad media

Leave a Reply

Next Post

वाराणसी में गैंगस्टर एक्ट के तहत अब तक 22 करोड़ से अधिक की संपत्तियां हुई कुर्क, 137 अपराधी किए गए जिलाबदर

Sat Nov 21 , 2020
वाराणसी में गैंगस्टर एक्ट के तहत अब तक 22 करोड़ से अधिक की संपत्तियां हुई कुर्क, 137 अपराधी किए गए जिलाबदर श्रीनारद मीडिया ब्यूरो प्रमुख / सुनील मिश्रा वाराणसी (यूपी) वाराणसी / जिला प्रशासन के निर्देश पर जनपद में गुंडा नियंत्रण अधिनियम, शस्त्र अधिनियम,  गैंगस्टर अधिनियम/ गिरोह बंद अधिनियम के […]
WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
error: Content is protected !!