बिटिया की शादी के लिए इक्कट्ठा किया पैसा साइबर अपराधी ने ऑनलाइन फ्रॉड करके उड़ाया

ठगी/कुशीनगर

👉बिटिया की शादी के लिए इक्कट्ठा किया पैसा साइबर अपराधी ने ऑनलाइन फ्रॉड करके उड़ाया

👉साइबर सेल कुशीनगर द्वारा कराया गया पैसा वापस

👉👉पढिये!!साइबर फ्राड से बचने के लिये पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने क्या बताया तरीका

बिटिया के हाथ को पिला करने के लिये कड़ी मेहनत कर एक एक पैसा इक्कठा करने वाला बसंतलाल पर पहाड़ उस समय टूट गया, जब उसके खाते से बिना जानकारी तीन बार मे पैसा निकल गया। बेचारा बसन्तलाल जब पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुँच अपनी बात पुलिस अधीक्षक कुशीनगर से कही—-। फरियादी बसन्तलाल प्रसाद सा0 पटहेरवा ने प्रार्थना पत्र देकर अवगत कराया कि प्रार्थी अपनी पुत्री की शादी के लिए पैसा इक्कट्ठा करके सेण्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया शाखा पिररा कनक के बचत खाते में रखा था। परन्तु किसी अज्ञात व्यक्ति ने फोन करके कहा कि मैं ए0टी0एम0 वेरीफिकेशन सेन्टर से बोल रहा हूँ। आपका ए0टी0एम0 बन्द होने वाला है। ए0टी0एम0 चालू करने के लिए वेरीफिकेशन करवाना जरूरी है। बसन्त लाल ने बताया कि वह उस व्यक्ति पर विश्वास करके ए0टी0एम0 कार्ड नं0 व मोबाइल पर मैसेज मे आया कोड बता दिया। और इसके बाद मोबाइल पर खाते से पैसा कटने का मैसेज आने लगा। पुलिस अधीक्षक कुशीनगर राजीव नारायण मिश्र द्वारा उक्त घटना पर तत्काल कार्यवाही करनें हेतु साईबर सेल को निर्देशित किया गया। इसी क्रम में जांच करनें पर पाया गया कि फरियादी बसन्तलाल प्रसाद के सेण्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया में खोले गये बचत खाते से धोखे से ओटीपी पूछकर Ccavenue Gateway के माध्यम से Infideam.com पर ऑनलाइन 03 Greetings मूल्य Rs. 9679/-,Rs. 9679/- व Rs. 1692/- कुल Rs. 21050/- की खरीदारी कर ली गयी है। पुलिस अधीक्षक कुशीनगर के निर्दशानुसार उक्त के क्रम मे साईबर सेल द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए उक्त ऑनलाइन खरीदे गये तीनो Greetings को रद्द कराते हुए 21050 (रू0 इक्कीस हजार पचास रू0 मात्र) को फरियादी के सेण्ट्रल बैंक ऑफ इण्डिया के बचत खाते मे वापस करा दिया गया है तथा फ्राड करने वाले के विरुध्द आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है। इस कार्य को सफलता के मुकाम तक आरक्षी अनिल कुमार यादव साइबर सेल द्वारा सम्पादित किया गया है।
सनद हो की पुलिस अधीक्षक के कुशल निर्देशन में कार्य कर रही साइबर पुलिस टीम ने बताया कि साइबर फ्राड होने की दशा मे यदि फरियादी साइबर ठगी होने के चौबीस घण्टे के अन्दर सूचना देता है तो फ्राड किये गये पैसो की वापसी की सम्भावना अधिक रहती है।

👉::::आप जान ले!!साइबर फ्राड से बचाव का तरीका-

इस बिषय में पुलिस अधीक्षक कुशीनगर राजीव नारायण मिश्र कहते है कि आज के आधुनिक परिवेश में सबसे अधिक साइबर फ्राड फोन करके ओ0टी0पी0 पूछकर पैसे निकालते समय ए0टी0एम0 कार्ड का नं0 व पासवर्ड चोरी करके ऑनलाइन वैलेटो के माध्यम से किया जा रहा जिससे बचने का सबसे अच्छा उपाय है कि फोन पर किसी भी व्यक्ति को अपने खाते से सम्बन्धित जानकारी साझा न करें और एटीएम बूथ से पैसे निकालते समय बूथ में अकेले ही प्रवेंश करे व अपना पासवर्ड छूपा कर दर्ज करें। अधिकतर साइबर अपराधी एटीएम बूथ में भीड़ का फायदा उठाकर साथ ही एटीएम बूथ के अन्दर प्रवेश कर जाते है। एवं सामने वाले व्यक्ति के पैसा निकालते समय ही उसका एटीएम कार्ड नं0 व पासवर्ड याद कर लेते है। जिसका भनक तक सामने वाले व्यक्ति को नही लगती है कि उसका एटीएम कार्ड नं0 व पासवर्ड चोरी हो गया है। यदि इस तरह का किसी भी प्रकार का शक हो तो तत्काल स्थानीय पुलिस को इसकी सूचना दें। अपना पैसा वापस पाकर खुशी का इजहार करते हुये बसंतलाल ने पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र के साथ ही उनकी साइबर पुलिस को धन्यबाद ज्ञापित किया है।

Leave a Reply