गोपालगंज की खबरें :  कोरोना को लेकर लॉकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरुद्ध पुलिस  ने दिखाई  सख्ती

 

गोपालगंज की खबरें :  कोरोना को लेकर लॉकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरुद्ध पुलिस  ने दिखाई  सख्ती

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : कोरोना को लेकर लॉकडाउन का उल्लंधन करने वालों के विरुद्ध पुलिस बुधवार को सख्त दिखी। कई स्थानों पर पुलिस ने लोगों को समझा बुझाकर घर वापस किया तो कई स्थानों पर दंड भी दिया। मीरगंज नगर परिषद क्षेत्र में बाइक लेकर निकले तीन युवकों को पुलिस ने रोककर कान पकड़वाकर उठक-बैठक कराया। इस बीच पुलिस ने तीनों को दोबारा बाइक के साथ देखने पर प्राथमिकी दर्ज कराने की चेतावनी दी।

बुधवार को मीरगंज थाने की पुलिस ने लॉकडाउन को लेकर शहरी इलाके में तैनात दिखी। दिखी बीच दिन के करीब दस बजे बाइक पर सवार होकर तीन युवक आते दिखे। पुलिस ने तीनों को रोककर उन्हें शहर में निकलने के बारे में कारण पूछा। पुलिस के सामने तीनों युवक घर से बाहर आने के लिए समुचित कारण नहीं बता सके। ऐसे में पुलिस ने तीनों युवकों को बाइक से नीचे उतारा तथा सड़क किनारे कान पकड़वा कर उठक-बैठक कराई। बाद में उन्हें इस चेतावनी के साथ छोड़ दिया गया कि दोबारा लॉकडाउन में घुमते मिलने पर उनके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ बरौली में लॉकडाउन के बाद भी बुधवार की सुबह लोगों की भीड़ बाजारों में उपड़ पड़ी। जिसे देखकर पुलिस को सख्ती दिखानी पड़ी। पुलिस के कड़े तेवर के बाद बाजार से भीड़ छंट गई तथा दोपहर बाद बाजार तथा सड़कों पर सन्नाटा पसर गया।

 

सामानों की अधिक कीमत वसूलने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : लॉकडाउन के दौरान प्रशासन अनाज की कालाबाजारी करने वाले अथवा सामानों की अधिक कीमत वसूलने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में सभी प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारियों को दिशानिर्देश जारी किया गया है। प्रशासन की नजर किराना दुकानों से लेकर सब्जी व दूध की दुकानों पर भी है। जांच में कोई भी दुकानदार अधिक कीमत वसूलते अथवा सामान का भंडारण करते पकड़ा गया उसके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।

एसडीओ सदर उपेंद्र कुमार पाल ने बताया कि जिलाधिकारी अरशद अजीज के निर्देश के बाद गठित टीम लगातार किराना सामान के थोक व खुदरा विक्रेताओं पर कड़ी नजर रख रही है। अलावा इसके सभी प्रखंड में तैनात एमओ को भी सतर्क कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि जिले में अनाज का भंडारण पर्याप्त मात्रा में है। यहां सब्जी से लेकर घरों में उपयोग होने वाले प्रत्येक वस्तु का भंडारण पर्याप्त है। एसडीओ ने कहा कि सब्जी की दुकानों पर भी पर्याप्त मात्रा में सब्जी पहुंच रही है। ऐसे में इसकी कोई भी किल्लत नहीं है। ऐसे में इनकी अधिक कीमत वसूली बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान दुकानों पर भीड़ लगाने की जरुरत नहीं है। अगर कहीं भी खाने के सामान की कमी की शिकायत है तो उसकी सूचना उनके मोबाइल नंबर पर दें। प्रशासन तत्काल खाद्यान्न उपलब्ध कराएगी। उन्होंने आम लोगों को अफवाह से दूर रहने की अपील करते हुए कहा कि वे घबराएं नहीं। प्रशासनिक स्तर पर किसी भी सामान की किल्लत नहीं होने दी जाएगी।

कार व ट्रक की टक्कर में कार चला रहे युवक की मौके पर ही मौत

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : बैकुंठपुर थाना क्षेत्र के खैरा आजम गांव के समीप लंगड़ा मोड़ के पास बुधवार की सुबह स्टेट हाइवे 90 पर एक कार व ट्रक की टक्कर में कार चला रहे युवक की मौके पर ही मौत हो गई। ग्रामीणों से इस हादसे की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। हादसे के बाद ट्रक छोड़कर चालक फरार हो गया। पुलिस फरार ट्रक चालक की तलाश कर रही है।

बताया जाता है कि पश्चिमी चंपारण जिले के बाल्मीकि नगर थाना क्षेत्र के रामपुरवा गांव निवासी हरिनाम सिंह के छोटे पुत्र शैलेंद्र प्रताप सिंह बुधवार की सुबह कार से छपरा से अपने घर लौट रहे थे। अभी ये खैरा आजम गांव के समीप लंगड़ा मोड़ के समीप पहुंचे ही थे कि तभी सामने से आ रहे एक ट्रक से कार की टक्कर हो गई। इस हादसे में कार चला रहे शैलेंद्र प्रताप सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। ग्रामीणों से इस हादसे की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने हादसे के शिकार बने युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। बताया जाता है कि हादसे के शिकार बने शैंलेंद्र प्रताप सिंह अपने दो भाइयों में सबसे छोटे थे। इनकी मौत की सूचना के बाद रामपुरवा गांव का माहौल गमगीन हो गया। हादसे में मारे गए युवक के बड़े भाई दयाशंकर सिंह, पुत्र अभिषेक प्रताप सिंह, पत्नी पूनम देवी, बेटी रितु सिंह का रो रो कर बुरा हाल है। थानाध्यक्ष अमितेश ने बताया कि हादसे के बाद ट्रक चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया। फरार चालक की तलाश की जा रही है।

शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक में सुरक्षित कल के लिए वाकई में सड़कों पर सन्नाटा दिखा

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश के नाम संबोधन के बाद बुधवार को शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक में सुरक्षित कल के लिए वाकई में सड़कों पर सन्नाटा दिखा। लॉकडाउन के आदेश के बाद शहर से लेकर सुदूर ग्रामीण इलाके तक की अधिकांश दुकानें सुबह से ही बंद रहीं। इस बीच किराना दुकानों से लेकर फल, दूध व सब्जी की दुकानें खुलीं। कुछ स्थानों पर छोटे दुकानदारों ने अन्य दुकानों को भी खोलने का प्रयास किया। जिन्हें बाद भी प्रशासनिक व पुलिस पदाधिकारियों ने बंद करा दिया। इस बीच सड़क पर अनावश्यक रूप से घूम रहे लोगों को भी उनके घर का रास्ता दिखा दिया गया। लॉकडाउन के दौरान लोगों ने मंदिर व सार्वजनिक स्थानों पर जाने से भी परहेज किया।वैसे तो जिले में लॉकडाउन सोमवार से ही प्रारंभ है। लेकिन मंगलवार को आधी रात के बाद से शहर से लेकर गांवों तक में लॉकडाउन का आदेश का असर दिखा। शहरी इलाकों की दुकानें तो पहले ही बंद थीं। लेकिन बुधवार को गांवों से लेकर चौक-चौराहे पर स्थित दुकानों में भी ताला लटक गया। इसके लिए पुलिस को कोई विशेष मशक्कत नहीं करनी पड़ी। नब्बे प्रतिशत से अधिक लोगों ने खुद को घरों में कैद कर लिया। कुछ लोग सड़कों पर निकले। जिन्हें पुलिस ने दबाव देकर घर वापसी का रास्ता दिखा दिया। उत्तरप्रदेश की सीमा से लगे इस जिले में बुधवार की सुबह से ही लोग लॉकडाउन का असर दिखा। इस बीच लोगों ने घरों से बाहर निकलने में परहेज किया। इस बीच लोगों ने परिवार के लोगों के साथ ही अपना वक्त बिताया। दिन चढ़ने के बाद कुछ स्थानों पर किराना की दुकानों के अलावा दूध, सब्जी आदि की कुछ दुकानें भी खुलीं। इस बीच बिना जरुरी कारण के घर से निकले कुछ लोगों पर पुलिस की जोर जबरदस्ती भी कई इलाकों में दिखी।

इनसेट

सीमावर्ती इलाकों में 34 स्थानों पर बनाए गए बैरियर

गोपालगंज : कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए जुटी पुलिस ने जिले के सीमावर्ती इलाकों में 34 स्थानों पर चेक बैरियर लगाया है। इन बैरियरों के माध्यम से दूसरे राज्य या जिले से आने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। सीमावर्ती इलाके पर नजर रखने के लिए छह सौ से अधिक जवानों की तैनाती की गई है। अलावा इसके ग्रामीण इलाकों में थाने पर तैनात पुलिस पदाधिकारी व सिपाही सक्रिय रहकर संक्रमण रोकने के अभियान में जुटे हुए हैं। पुलिस अधिकारी भी भ्रमण पर रहकर स्थिति पर नजर रख रहे हैं।

इनसेट

जिला मुख्यालय में इंट्री प्वाइंट पर लगाए गए बैरियर

गोपालगंज : बाहर से शहर में आने पर पूरी तरह से रोक लगी हुई है। इसके लिए शहर के सभी इंट्री प्वाइंट पर बैरियर लगाए गए हैं। साथ ही शहर के अंदर भी प्रमुख रास्तों पर भी बैरियर लगाए गए हैं। सभी बैरियर पर बड़ी संख्या पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। इसके अलावा चौराहों पर भी पुलिस तैनात की गई है। प्रमुख सड़कों और घनी आबादी वाले क्षेत्रों में लगातार गश्त की जा रही है। पुलिसकर्मियों की आठ-आठ घंटे की शिफ्ट में ड्यूटी लगाई गई है। ग्रामीण इलाकों में थानेदारों के अलावा एएसआइ को लोगों की आवाजाही रोकने के लिए तैनात किया गया है। एसपी मनोज कुमार तिवारी, एसडीपीओ नरेश पासवान सहित कई वरीय पुलिस पदाधिकारी भ्रमणशील रहकर लोगों को घर से बाहर निकलने से रोकने की दिशा में कार्य कर रहे हैं।

इनसेट

घरों में बदल रही लोगों की जीवन शैली

गोपालगंज : लॉकडाउन के आदेश के बाद घर पर रहने वाले अधिकतर बुजुर्गों से लेकर परिवार के लोगों की जीवन शैली में बदलाव आ गया है। आमतौर पर बड़े बुजुर्ग लोगों की जीवनशैली में सुबह व शाम को बाहर टहलना शामिल होता है। लेकिन लॉकडाउन के आदेश के बाद उन्हें इस अवसर से वंचित होना पड़ रहा है। बावजूद इसके बड़े बुजुर्ग लोगों को इससे निराशा बिल्कुल नहीं हुई। कई दिनों बाद परिवार के सभी सदस्य एक साथ मिले थे। उनकी सुबह की शुरुआत पूजा-अर्चना के साथ हुई तो उसके बाद घरवालों के साथ देश-दुनिया के मुद्दों पर चर्चा की गई। बेटे, बहू, पोते, पोतियों के साथ बैठकर नाश्ता किया और खाना खाया। उन्होंने अपने समय में होने वाली बातों से भावी पीढ़ी को अवगत कराया तो पोते-पोतियों से तकनीकी ज्ञान भी हासिल किया।

 

21 दिन का लॉकडाउन का आदेश जारी होने के बाद   जिलाधिकारी  पुलिस अधीक्षक शहर की सड़क पर निकल पड़े

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : कोरोना को लेकर पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन का आदेश जारी होने के बाद मंगलवार की रात जिलाधिकारी अरशद अजीज पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार तिवारी के साथ शहर की सड़क पर निकल पड़े। डीएम व एसपी के सड़कों पर निकलने के साथ ही पूरे जिले में लॉकडाउन को कड़ाई से पालन करने के लिए पुलिस सक्रिय हो गई। देर रात ऑटो व बाइक से सड़क पर निकलने वाले लोगों पर पुलिस ने लाठियां चटकाई। बुधवार की सुबह पुलिस की गश्ती शहर से लेकर पूरे जिले में तेज हो गई। सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। दवा, डेयरी, किराना की दुकान को छोड़कर सभी दुकाने बंद रहीं। इस दौरान सड़क पर वाहन के साथ निकले लोगों को रोक कर पुलिस ने उनसे जुर्माना वसूला। पुलिस की कड़ाई के कारण सड़कों पर इक्का-दुक्का लोग ही नजर आए। बहुत जरूरी होने पर ही लोग घरों से बाहर निकले।मंगलवार की रात आठ बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए 21 दिन तक पूरे देश में लॉकडाउन लागू करने की जानकारी दिया। लॉकडाउन के आदेश के बाद रात दस बजे जिलाधिकारी अरशद अजीत तथा पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार तिवारी एक साथ अपने अपने आवास से शहर में गश्ती पर निकल पड़े। अरार मोड होते हुए कॉलेज रोड पहुंचने पर एक साथ चार ऑटो को देखकर डीएम अरशद अजीज ने उन्हें रोक कर सड़क पर निकलने का कारण पूछा। संतोष जनक कारण नहीं बताने पर पुलिस ने ऑटो चालकों पर लाठियां चटकाकर उन्हें घरों से बाहर नहीं निकलने की चेतावनी दिया। यहां से डीएम व एसपी का काफिला शहर के घोष मोड़ पहुंचा। जहां रात में ही किराना दुकान पर भीड़ देखकर डीएम ने दुकानदार को दुकान पर भीड़ नहीं लगाने का निर्देश दिया। इसी बीच सभी ग्राहक अपना सामान लेकर सीधे घर की ओर रवाना हो जाए। डीएम व एसपी यहां से दरगाह रोड, स्टेशन रोड होते हुए अंबेडकर चौक पहुंचे। जहां बस के इंतजार में खड़े कुछ लोगों को देखकर उनलोगों से घर जाने की अपील किया। यहां से डीएम व एसपी का काफिला सिनेमा रोड की तरफ बढ़ा। इस दौरान एक बाइक पर सवार दो युवकों को देखकर उनसे देर रात में घूमने की वजह पूछी गई। जवाब संतोषजनक नहीं मिलने पर डीएम के साथ मौजूद पुलिस कर्मियों ने बाइक सवार पर लाठियां चटकाना शुरू कर दिया। जिस पर युवक अपनी बाइक लेकर वहां से भाग निकले। बुधवार की सुबह भी लॉकडाउन का अनुपालन कराने के लिए पुलिस काफी सक्रिय रही। पुलिस की सक्रियता का सुबह से ही असर दिखा। दवा, किराना, डेयरी की दुकानों को छोड़ कर सभी दुकानें बंद रहीं। सड़क पर सन्नाटा पसरा रहा। इक्का दुक्का ही लोग सड़क पर दिखे। पूरे जिले में लॉकडाउन का कड़ाई से पालन किया गया। इस दौरान वाहनों से निकलने वाले लोगों को रोककर पुलिस ने उनसे जुर्माना वसूला।

इनसेट

दिल्ली से ऑटो रिजर्व कर गोपालगंज पहुंचे लोग

गोपालगंज : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के बाद पूरे देश में लॉक डाउन लागू कर दिया गया। इसी बीच कुछ लोगों दिल्ली से ऑटो रिजर्व कर अपने घर जाने के लिए गोपालगंज पहुंचने लगे। दिल्ली नंबर के एक दर्जन ऑटो शहर से गुजरने की सूचना मिलने पर पुलिस सक्रिय हो गई। पुलिस ने जगह- जगह दिल्ली से आ रहे ऑटो को रोककर उसमें बैठे लोगों से पूछताछ किया तो उन्होंने बताया कि पूरे देश में लॉक डाउन लागू होने से बस व ट्रेन बंद हो गई है। जिसके कारण ऑटो को रिजर्व कर दिल्ली से गोपालगंज आना पड़ रहा है। पूछताछ करने के बाद पुलिस ने ऑटो में सवार दिल्ली से आए सभी लोगों का सदर अस्पताल में जांच कराया गया।

इतिहास में यह शायद पहली बार है कि चैत्र नवरात्र में ऐतिहासिक थावे दुर्गा मंदिर का कपाट बंद रहा

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : इतिहास में यह शायद पहली बार है कि चैत्र नवरात्र में ऐतिहासिक थावे दुर्गा मंदिर का कपाट बंद रहा। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर लॉकडाउन के आदेश के बाद पहली बार थावे दुर्गा मंदिर परिसर बुधवार को सूना पड़ा रहा। इस बीच श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के दरवाजे बंद रहे। लोगों ने चैत्र नवरात्र को लेकर अपने घरों में रहकर ही मां दुर्गा की पूजा अर्चना की। कई घरों में कलश स्थापना कर मां की पूजा अर्चना का कार्य प्रारंभ हुआ।

केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए आगामी 14 अप्रैल तक लॉकडाउन का आदेश दिया है। इस आदेश की परिधि में मंदिर भी शामिल हैं। यानि इस अवधि में मंदिरों में प्रवेश व पूजा अर्चना पर पूर्ण रूप से रोक है। इसी रोक के आदेश के बीच बुधवार को चैत्र नवरात्र प्रारंभ हो गया। लेकिन लोगों ने लॉकडाउन के आदेश का इस बीच पूरा ख्याल रखा। लोग मंदिरों में पूजा अर्चना करने के बदले अपने घरों के पूजा गृह में मां की पूजा अर्चना की। इस बीच लोगों ने इस आपदा से बचाव के लिए मां से प्रार्थना की। बड़े मंदिरों के कपाट बंद होने के कारण यहां लोग नदारद दिखे। ग्रामीण क्षेत्र की देवी मंदिरों में भी लोगों ने पूजा के लिए जाने में परहेज किया। नवरात्र के दौरान हमेशा गुलजार रहने वाले ग्रामीण मंदिरों के आसपास वीरानगी ही दिखी। लोग वायरस के संक्रमण से खुद के बचाव के प्रति अधिक सतर्क देखे।बुधवार को चैत्र नवरात्र के प्रथम दिन ऐतिहासिक थावे दुर्गा मंदिर में पुजारी ने पूजा अर्चना व आरती की। इस बीच सुबह की आरती में मंदिर के तीन पुजारी को छोड़ किसी को भी मंदिर परिसर में जाने की अनुमति नहीं दी गई। लछवार, घोड़ाघाट व देवीगंज स्थित मां दुर्गा के मंदिरों में भी यहीं स्थिति दिखी।

 

ग्रामीण इलाके के सभी बैंकों की शाखाएं एक-एक दिन गैंप कर ही  खुलेगी

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

बिहार में कोरोना वायरस को लेकर गोपालगंज में जिला प्रशासन के साथ घंटों मंथन करने के बाद ग्रामीण इलाके के सभी बैंकों की शाखाएं एक-एक दिन गैंप कर ही खोलने का फैसला लिया गया. यह व्यवस्था गुरुवार से ही लागू होगा. जबकि, शहरी क्षेत्र के सभी बैंक सुबह 10 बजे से दिन के दो बजे तक सप्ताह में पांचों दिन काम करेंगे.
लीड बैंक के मैनेजर विकास कुमार ने बताया कि डीएम सर से बात करने के बाद स्टेट बैंक, ग्रामीण बैंक, सेंट्रल बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, केनारा बैंक, आइडीबीआइ, यूनियन बैंक समेत सभी बैंक शाखाओं को अल्टनेट कर शाखा खोलने को कहा गया है. शहरी क्षेत्र के सभी बैंक दिन के 10 से दो बजे तक बैंक काम करेंगे. ग्राहकों को परेशानी ना हो इसके लिए एटीएम व ग्राहक सेवा केंद्रों को नियमित कार्य करने को कहा गया है.
ग्राहक सेवा केंद्रों पर हैंड वाश व सैनिटाइजर का इंतजाम किया गया है. ग्राहकों को हाथ धुलवाने का अदेश दिया गया है. उधर, स्टेट बैंक के मांझा के प्रबंधक संजय कुमार सिंह ने बताया कि उनके बैंक में नोटिस चश्पा कर दिया गया है. जबकि, शहर की तीनों शाखाएं खुली रहेंगी.

 

जिले में विदेश से आये 207 लोग अब भी है लापता

श्रीनारद मीडिया‚ राकेश सिंह‚ स्टेट डेस्क

गोपालगंज : जिले में विदेश से आये 207 लोग अब भी लापता हैं. स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन के अधिकारी लापता लोगों की ट्रैकिंग में लगे हैं. अब तक 626 लोग विदेशों से आये हैं. इनमें 310 लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है. बाहर से आये लोगों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है.

पहले इन लोगों को घर के एक कमरे में होम आइसोलेशन वार्ड बना कर रखा जा रहा था, लेकिन कुछ जगहों से आइसोलेशन से निकलकर घूमने की सूचना मिलने के बाद पंचायतों में क्वॉरेंटाइन सेंटर बनाकर डाला जा रहा है. वहीं, ब्रिटेन का एक टूरिस्ट गोपालगंज पहुंचा है. इसे सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है.अस्पताल प्रशासन की ओर से आइसोलेशन वार्ड के एक कमरे में ऐहतियात तौर पर रखा गया है. सदर अनुमंडल पदाधिकारी उपेंद्र कुमार पाल के मुताबिक यूपी-बिहार के बॉर्डर के पास ब्रिटेन का नागरिक मिला, जो टूरिस्ट था.इमरजेंसी वार्ड में सिर्फ सर्दी और खांसी के मरीज ही पहुंच रहे हैं. डॉक्टरों का कहना है कि ओपीडी सेवा बंद होने के बाद इमरजेंसी वार्ड में मरीजों की संख्या बढ़ गयी है. बुधवार को सदर प्रखंड के तिरविरवां, मांझा, हरखुआ, बसडिला, जादोपुर, सरेया आदि इलाकों से सर्दी-खांसी के अधिकतर मरीज पहुंचे थे. डॉ शशि रंजन प्रसाद के मुताबिक, मौसम के कारण ऐसे मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है.

गोपालगंज कोरोना अपडेट

626 लोग विदेश से लौटे घर

419 सर्विलांस पर रखे गये

310 लोग की हुई स्क्रीनिंग

207 लोगों की हो रही ट्रैकिंग

234 पंचायत में क्वॉरेंटाइन सेंटर

15 लोग आइसोलेशन से मुक्त

11 संदिग्ध मरीज चिन्हित हुए

04 संदिग्ध, पीएमसीएच हैं रेफर

03 निगेटिव आया है जांच रिपोर्ट

04 क्वॉरेंटाइन सेंटर निकाय में

02 बना है आइसोलेशन सेंटर

05 सैनिटाइज्ड एंबुलेंस तैयार

01 एक ब्रिटिश नागरिक भर्ती

Leave a Reply