होली भारत का प्रमुख त्योहार है, एक ओर सामाजिक एवं धार्मिक त्योहार है, वहीं रंगों का भी त्योहार है

होली भारत का प्रमुख त्योहार है, एक ओर सामाजिक एवं धार्मिक त्योहार है, वहीं रंगों का भी त्योहार है.

श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क

दिवस पर विशेष

होली भारत का प्रमुख त्योहार है। होली जहाँ एक ओर सामाजिक एवं धार्मिक त्योहार है, वहीं रंगों का भी त्योहार है। बाल-वृद्ध, नर-नारी सभी इसे बड़े उत्साह से मनाते हैं। इसमें जातिभेद-वर्णभेद का कोई स्थान नहीं होता। इस अवसर पर लकड़ियों तथा कंडों आदि का ढेर लगाकर होलिकापूजन किया जाता है फिर उसमें आग लगायी जाती है। पूजन के समय मंत्र उच्चारण किया जाता है।

रचलित मान्यता के अनुसार यह त्योहार हिरण्यकशिपु की बहन होलिका के मारे जाने की स्मृति में मनाया जाता है। पुराणों में वर्णित है कि हिरण्यकशिपु की बहन होलिका वरदान के प्रभाव से नित्य अग्नि स्नान करती थी और जलती नहीं थी। हिरण्यकशिपु ने अपनी बहन होलिका से प्रह्लाद को गोद में लेकर अग्नि स्नान करने को कहा। उसने समझा कि ऐसा करने से प्रह्लाद अग्नि में जल जाएगा तथा होलिका बच जाएगी। होलिका ने ऐसा ही किया, किंतु होलिका जल गयी, प्रह्लाद बच गये। होलिका को यह स्मरण ही नहीं रहा कि अग्नि स्नान वह अकेले ही कर सकती है। तभी से इस त्योहार के मनाने की प्रथा चल पड़ी।

यह बहुत प्राचीन उत्सव है। इसका आरम्भिक शब्दरूप होलाका था। भारत में पूर्वी भागों में यह शब्द प्रचलित था। जैमिनि एवं शबर का कथन है कि ‘होलाका’ सभी आर्यो द्वारा सम्पादित होना चाहिए। काठकगृह्य में एक सूत्र है ‘राका होला के’, जिसकी व्याख्या टीकाकार देवपाल ने यों की है- ‘होला एक कर्म-विशेष है जो स्त्रियों के सौभाग्य के लिए सम्पादित होता है, उस कृत्य में राका देवता है।’अन्य टीकाकारों ने इसकी व्याख्या अन्य रूपों में की है। ‘होलाका’ उन बीस क्रीड़ाओं में एक है जो सम्पूर्ण भारत में प्रचलित हैं। इसका उल्लेख वात्स्यायन के कामसूत्र में भी हुआ है जिसका अर्थ टीकाकार जयमंगल ने किया है। फाल्गुन की पूर्णिमा पर लोग श्रृंग से एक-दूसरे पर रंगीन जल छोड़ते हैं और सुगंधित चूर्ण बिखेरते हैं। हेमाद्रि ने बृहद्यम का एक श्लोक उद्भृत किया है। जिसमें होलिका-पूर्णिमा को हुताशनी कहा गया है। लिंग पुराण में आया है- ‘फाल्गुन पूर्णिमा को ‘फाल्गुनिका’ कहा जाता है, यह बाल-क्रीड़ाओं से पूर्ण है और लोगों को विभूति, ऐश्वर्य देने वाली है।’ वराह पुराण में आया है कि यह ‘पटवास-विलासिनी’ है।

मुग़ल काल में रचे गए उर्दू साहित्य में दाग़ देहलवी, हातिम, मीर, कुली कुतुबशाह, महज़ूर, बहादुर शाह ज़फ़र, नज़ीर, आतिश, ख्वाजा हैदर अली ‘आतिश’, इंशा और तांबा जैसे कई नामी शायरों ने होली की मस्ती और राधा कृष्ण के निश्च्छल प्यार को अपनी शायरी में बहुत ख़ूबसूरती से पिरोया है। उर्दू के जाने माने शायर नज़ीर अकबराबादी पर उर्दू अदब के भारत की संस्कृति और परंपराओं का ज़बर्दस्त असर था। 150 साल पहले लिखी गई उनकी रचनाएं ‘नज़ीर की बानी’ के नाम से प्रसिद्ध है। उन्होंने जिस मस्ती के साथ होली का वर्णन किया है। उसको पढ़कर ही उस दौर में खेली जाने वाली होली की मस्ती की महक मदमस्त कर देती है

Leave a Reply