भगवान भास्कर की कलाकृति बनी मुख्य आकर्षण, छठव्रतियों ने मधुरेंद्र को दी बधाई

भगवान भास्कर की कलाकृति बनी मुख्य आकर्षण, छठव्रतियों ने मधुरेंद्र को दी बधाई

०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow
०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow

सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र ने रेत पर बनाई भगवान भास्कर की आकृति, बना छठ पूजा का सबसे बड़ा आकर्षण, राजधानी में लोगों ने खूब सराहा

श्रीनारद मीडिया,  स्‍टेट डेस्‍क, पटना:

बिहार में लोक आस्था व सूर्य उपासना का महापर्व छठपूजा सोमवार को सभी छठ व्रतियों ने उदयाचलगामी भगवान भास्कर को अर्ध्य देकर चार दिवसीय छठ पर्व का समापन किया। इसके पहले रविवार को सभी छठव्रतधारियों ने शाम के समय अस्ताचंलगामी भगवान भास्कर को पहला अर्ध्य दिया।

वही छठ पूजा के दूसरे दिन खरना के पूर्व संध्या पर राजधानी में पटना साहिब के कंगनघाट गंगा किनारे शनिवार को बिहार के पूर्वी चम्पारण जिले के सिकरहना अनुमंडल अंतर्गत घोड़ासहन बनकटवा प्रखंड के बिजबनी गांव निवासी विश्वविख्यात सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र कुमार द्वारा बालू की रेत पर बनाई गई साथ घोड़े की सवारी करते भगवान सूर्य की कलाकृति राजधनी में छठ घाट पर सबसे बडा आकर्षण बनी रही।

यह कलाकृति दो दिनों तक सभी छठ व्रतियों के बीच आकर्षण का केंद्र रहा। बालू से बनी भगवान भास्कर को लोग नमन करते हुए अपने सेलफोन में सेल्फी भी ले रहे थे। बता दें कि डाबर इंडिया कंपनी के बुलावे पर बिहार के गंगा तट पर 20 फीट ऊंची भगवान सूर्य की विशालकाय प्रतिमा उकेर कर अपनी भक्ति भावना प्रकट की।

सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र ने ऐसे ही देश प्रदेश में हुए घटनाओं व ज्वलंत विषयों साहित सभी अवसरों पर अपनी विशेष कला का प्रदर्शन कर लोगों में नया संदेश देते रहते हैं। मौके पर उपस्थित हजारों छठ व्रतियों और आम लोगों ने बालू से बनी भगवान भास्कर की कलाकृति को प्रणाम करते रेत कलाकार मधुरेंद्र को बधाई भी दी।

यह भी पढ़े

श्री श्री 108 छठ पूजा जागरण समिति का हुआ उद्घाटन 

मशरक प्रखंड क्षेत्र  में उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ  छठ पर्व का हो गया समापन

सीवान जिला के टॉप टेन अपराधकर्मी गिरफ्तार

रघुनाथपुर : उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही संपन्न हो गया चार दिवसीय छठव्रत

उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ सम्पन्न हुआ छठ पूजा 2023।

सिवान बिहार: उगते सूर्य को अर्घ्य देकर संपन्न हुआ छठ महापर्व

Leave a Reply

error: Content is protected !!