मानवाधिकार न्यायिक सुरक्षा संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष तरुण शर्मा ने किया अफसोस व्यक्त

मानवाधिकार न्यायिक सुरक्षा संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष तरुण शर्मा ने किया अफसोस व्यक्त

श्रीनारद मीडिया ब्यूरो प्रमुख / सुनील मिश्रा वाराणसी (यूपी)

वाराणसी / भारतीय सीमा पर शहादत देने वाले शहीदों की शहादत के सबूत मांगे जाते हैं। उनकी कुर्बानी पर राजनेताओं की रोटियां पकाई जाती है।एक गरीब को किसी भी विभाग में चक्कर लगवा लगवा कर उसे चक्कर खाकर गिरा दिया जाता है। कितना अच्छा कल्चर है मेरे आजाद भारत का मां को बेचों या देश को बस अपनी कुर्सी बचा के ही रखना है। इस भारत माता की गोद में खेल रहे राजनेताओं से मैं पूछता हूं कि कब तक इस मासूम जनता को गुमराह किया जाएगा और कब तक हमारी जनता आंखों को बंद करके तमाशा देखती रहेगी। भारत के राजनेताओं बदलो अपने आप को और खत्म करो ऐ खेल जो सेना पर सवाल उठाते हैं खुद चूहों से डरकर उसी सेना के 10 जवान सुरक्षा में रखते हैं और उन्हीं का मजाक उड़ाते हैं।सेना का मजाक उड़ाने वाले बेशर्मो तुम्हें भारत की भूमि पर रहने का कोई अधिकार नहीं है।

Leave a Reply