विद्या भारती विद्यालयों के उत्तर बिहार प्रांत स्तरीय 33 वां खेलकूद समारोह का हुआ अगाज

विद्या भारती विद्यालयों के उत्तर बिहार प्रांत स्तरीय 33 वां खेलकूद समारोह का हुआ अगाज

बच्चों में गुणात्मक विकास के लिए खेलकूद जरूरी : विधायक वीरेंद्र पासवान

श्रीनारद मीडिया, मुजफ्फरपुर  (बिहार):

खेलकूद भारतीय शिक्षा पद्धति का एक महत्वपूर्ण अंग है। बच्चों के विकास में खेलकूद महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करता है। विद्या भारती के विद्यालय अपने बच्चों के बीच अपने बच्चों के गुणात्मक विकास के लिए लगातार खेल कूद का आयोजन करते हैं, यह जानकर खुशी हुई।उक्त बातें विधायक वीरेंद्र पासवान ने विद्या भारती विद्यालयों के 33 वें प्रांतीय खेलकूद समारोह को संबोधित करते हुए कहीं।

website ads
website ads
previous arrow
next arrow
website ads
website ads
previous arrow
next arrow

 

उल्लेखनीय हो कि विद्या भारती कि उत्तर बिहार इकाई लोक शिक्षा समिति बिहार के तत्वधान आयोजित विद्या भारती विद्यालयों के उत्तर बिहार प्रांत स्तरीय 33 वां खेलकूद समारोह मुजफ्फरपुर जिले के सकरा प्रखंड के बिशुनपुर बाघमारी स्थित शिवालय सरस्वती शिशु मंदिर के प्रांगण में मंगलवार 17 मई की सांयकाल शुभारंभ हुआ। यह खेलकूद समारोह 19 मई तक चलेगा।

 

इस आयोजन में उत्तर बिहार प्रांत के विद्या भारती विद्यालयों के शिशु वर्ग के लगभग एक हजार भैया – बहनें शामिल हैं और वे तीन दिनों में एथलेटिक ,कबड्डी एवं खो खो प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेंगे।

33 वें प्रांतीय खेल-कूद समारोह के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते लोक शिक्षा समिति बिहार के प्रदेश सचिव श्री मुकेश नंदन जी ने कहां कि विद्या भारती विद्यालय केवल शैक्षणिक ही नहीं बल्कि सांस्कृतिक एवं खेलकूद के क्षेत्र में भी देश के अग्रणी शैक्षणिक संस्थान है।

 

उन्होंने कहां कि खेल के मैदान में बच्चों के स्वास्थ्य के साथ ही उनके बीच परस्पर सहयोग, सौहार्द, एकता, प्रेम व कर्तव्यनिष्ठा के भावों का विकास होता है। शारीरिक, मानसिक एवं बौद्धिक विकास के साथ-साथ अनुशासन और चरित्र निर्माण भी होता है। अनुशासन एवं चरित्र निर्माण में खेलों का विशेष महत्व है. खेलों की प्रतिस्पर्धा खिलाड़ियों को अनुशासन के लिए प्रेरित करती है।

 

वहीं विद्या भारती बिहार क्षेत्र के क्षेत्रीय सचिव नकुल कुमार शर्मा
ने कहां कि शिक्षा से साथ साथ खेलकूद भी जीवन में बहुत आवश्यक है क्योंकि खेल से ही छात्राओं का चरित्र निर्माण होता है खेल मैदान चरित्र निर्माण की पाठशाला होती है और चरित्र निर्माण से ही आर्दश नागरिकों का निर्माण होता है। आर्दश नागरिक ही देश की धरोहर होती है।

 

उन्होंने कहां कि ‌ खेल के आयोजन से भैया-बहनों का मानसिक शारीरिक विकास होता है, वही इन प्रतियोगिताओं के कारण प्रतिभाएं निकल राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान स्थापित करती है।

उद्घाटन सत्र में 33 वें प्रांतीय खेलकूद समारोह के संबंध में जानकारी देते हुए लोक शिक्षा समिति के मुजफ्फरपुर विभाग निरीक्षक ललित कुमार राय ने बताया कि इस तीन दिवसीय खेलकूद प्रतियोगिता में उत्तर बिहार प्रांत के सभी दो सौ विद्यालयों के शिशु वर्ग के भैया- बहनें एथलेटिक कबड्डी व खो-खो प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेंगे।

इस मौके पर लोक शिक्षा समिति बिहार के मंत्री डॉ सुबोध कुमार, सह प्रदेश सचिव राम लाल सिंह , मुखिया श्रीमती बबीता कुमारी , जिला पार्षद संगीत पासवान , सत्यनारायण गुप्ता , लोक शिक्षा समिति के सभी विभाग निरीक्षक , प्रधानाचार्य दुलेन्द्र कुमार मंडल सहित सैकड़ों की संख्या में स्थानीय प्रबुद्ध नागरिक और विद्यालय के अभिभावक उपस्थित थें।

यह भी पढ़े

कैरियर में स्किल के महत्व पर मंथन 19 को

हावड़ा-पटना रेलखंड के गोंडा स्टेशन पर नॉन इंटरलॉकिंग कार्य को लेकर 48 ट्रेनें रद्द

हेगरे को राज्य सभा प्रत्याशी बनाए जाने पर जदयू ने जताया खुशी का इजहार

जदयू सभी समाज को एक साथ लेकर चलने वाली पार्टी : मुरारी सिंह

 

shrinarad media

Leave a Reply

Next Post

अफ्रीकन कोच से रग्वी के गुर सिख रही हैं मैरवा की तीन बेटियाँ 

Wed May 18 , 2022
अफ्रीकन कोच से रग्वी के गुर सिख रही हैं मैरवा की तीन बेटियाँ श्रीनारद मीडिया, एस मिश्रा, मैरवा, सीवान (बिहार): बिहार राज्य रग्वी फुटबॉल संघ द्वारा राष्ट्रीय जूनियर एवं सीनियर रग्बी फुटबॉल प्रतियोगिता हेतु गठित होने वाली बिहार राज्य रग्बी फुटबॉल टीम के गठन हेतु पटना के कंकड़बाग स्पोर्ट्स कंपलेक्स […]
error: Content is protected !!