बड़हरिया में भी शुरू हो चुकी है ब्रोकली व लाल-पीली गोभी की जैविक खेती

बड़हरिया में भी शुरू हो चुकी है ब्रोकली व लाल-पीली गोभी की जैविक खेती

०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow
०१
WhatsApp Image 2023-11-05 at 19.07.46
PETS Holi 2024
previous arrow
next arrow

श्रीनारद मीडिया, सीवान (बिहार )

सीवान जिले के बड़हरिया प्रखंड की कैलगढ़ दक्षिण पंचायत के रोहड़ा खुर्द में आत्मा के सौजन्य से गठित शिवशक्ति फिसरीज कृषक हित समूह के अध्यक्ष मंगल सिन्हा आदर्श एवं सचिव सह प्रखंडस्तरीय किसान सलाहकार समिति के अध्यक्ष शक्ति सिन्हा आदर्श को 10 कट्ठे में ब्रोकली और लाल-पीली गोभी की खेती की गयी है। इस खेती में उन्हें अब सफलता मिली है । साथ ही,उन्होंने के लाल-पीली गोभी की कटाई करायी गयी। सहायक तकनीकी प्रबंधक सतीश सिंह ने बताया कि यदि किसान नयी सब्जी या कोई नयी तरह से खेती करते हैं तो मार्केट में उसकी मांग अधिक होगी। जिससे किसानों की आय दुगुनी बढ़ जायेगी। साथ में जैविक का सब्जी का मूल्य भी अधिक

मिलेगा। वहीं इनके द्वारा समेकित कृषि प्रणाली में भी खेती भी कि जा रही है। एटीएम सतीश सिंह ने बताया कि प्रखण्ड के सुन्दरी चंवर में मछली पालन के साथ अंडा उत्पादन, बत्तक पालन,बकरी पालन,मुर्गी पालन,हेचरिंग, बायोप्लाक मछली पालन के साथ ही अजोला की भी खेती किसान कर रहे हैं। भविष्य में यहां पर किसानो का परिभ्रमण और प्रशिक्षण का केंद्र जिला व राज्य स्तर पर बनाया जा सकता है। इसे देख कर किसान अपने खेतों में इस तरह की फसलों की खेती को अपना सकते हैं। बहरहाल, कृषि विभाग के प्रोत्साहन से प्रखंंड के कुछ प्रगतिशील किसान नयी सब्जियों की जैविक खेती के ही औषधीय पौधों का उत्पादन कर रहे है और कृषि क्षेत्र में नई इबारत लिख रहे हैं।

यह भी पढ़े

राम जानकी मंदिर में स्थापित करने आई मूर्ति के साथ सैकड़ों श्रृद्धालुओं ने लगाया जयकार

*बीएचयू में साइबर लाइब्रेरी में एसी और इंटरनेट की समस्या को लेकर छात्रों ने दिया धरना*

बिहार राज्य उजरत भोगी अमीन संघ ने सरकार से अपनी माँग रखी

लेटरल एंट्री क्या आरक्षण पर खतरा है या ब्यूरोक्रेसी में ‘निजीकरण’ की एक कोशिश?

‘हंटर किलर’, बेहद शक्तिशाली है अर्जुन मार्क-1ए टैंक.

Leave a Reply

error: Content is protected !!