बलिया जिले के स्‍थापना दिवस पर विचार गोष्‍ठी का आयोजन

बलिया जिले के स्‍थापना दिवस पर विचार गोष्‍ठी का आयोजन

श्रीनारद मीडिया, देवरिया,(यूपी):

मसहॉ रतसर राजेश कुमार मिश्र पूर्व उपाध्यक्ष छात्र संघ सतीश चंद्र कॉलेज बलिया के मसहॉ स्थित आवास पर बलिया स्थापना दिवस के अवसर पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया गोष्टी में उपस्थित वक्ताओं ने बागी बलिया के इतिहास पर प्रकाश डाला इस अवसर पर गुड को संबोधित करते हुए राजेश कुमार मिश्र ने कहा कि 1 नवंबर 18 79 बलिया जनपद का स्थापना हुई थी उन्होंने कहा कि उससे पहले भी हम अगर पुरातन इतिहास का अध्ययन करते हैं तो पाते हैं कि बलिया का एक अलग इतिहास रहा है यह बलिया राजा बलि के नाम पर बसा हुआ है देवताओं ने भी इसको पुण्यभूमि के रूप में मान्यता दी है जब महर्षि भृगु को ब्रह्मा श्राप लगा था तो उस श्राप से उन्हें यहीं पर छुटकारा मिला था इस पवित्र भूमि पर उनके शिष्य दर्दर मुनि के नाम पर ददरी मेला लगता है अंग्रेजों के खिलाफ प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई में यही के वीर सिपाही मंगल पांडे को प्रथम क्रांतिकारी एवं शहीद की उपाधि मिली है बलिया जनपद 1942 में है स्वतंत्र हो गया था एवं चित्तू पांडे को प्रथम जिला अधिकारी के रूप में मान्यता मिली थी पुरातन समय से लेकर के स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई से होकर के आज भी हमारा यह जनपद देश की राजनीति में देश के विकास में अग्रणी भूमिका निभा रहा है देश स्वतंत्र होने के बाद चंद्रशेखर जी जो प्रधानमंत्री रहे जनेश्वर मिश्र से होते हुए वर्तमान में राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश जी के रूप में यह सिलसिला चल रहा है उपस्थित वक्ताओं ने बलिया जनपद के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए गर्व की अनुभूति होने की बात कही कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री राधा कृष्ण मित्र पूर्व प्रधान एवं संचालन आशीष मिश्रा छोटे ने किया कार्यक्रम में श्री बृजमोहन मिश्रा कमलाकर मिश्र बहुत सुंदर रूद्र नारायण पांडे सरल मिश्र भोला मिश्र बबलू चौबे नंद लाल यादव श्री अमरनाथ मिश्रा श्री श्याम नारायण मिश्र मनोज पांडे राजेश पांडे अमित मिश्रा अंकित मिश्रा अखिलेश मिश्र राजकुमार मिश्र अमित पांडे अनमोल मिश्र दीपक मिश्र सहित समस्त ग्रामीण उपस्थित रहे

Leave a Reply