साइना नेहवाल बैडमिंटन की विश्व रैंकिग में शीर्ष स्थान पर पहुंचने वाली भारतीय खिलाड़ी हैं।

साइना नेहवाल बैडमिंटन की विश्व रैंकिग में शीर्ष स्थान पर पहुंचने वाली भारतीय खिलाड़ी हैं।

श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क

जन्मदिवस पर विशेष

साइना नेहवाल भारत की प्रसिद्ध बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। साइना नेहवाल भारत सरकार द्वारा पद्म श्री, पद्म भूषण और भारत का सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित हो चुकी हैं। लंदन ओलंपिक 2012 में साइना नेहवाल ने इतिहास रचते हुए बैडमिंटन की महिला एकल स्पर्धा में कांस्य पदक हासिल किया। बैडमिंटन में ऐसा करने वाली साइना नेहवाल भारत की पहली खिलाड़ी हैं। साइना बीजिंग ओलंपिक 2008 में भी क्वार्टर फाइनल तक पहुँची थीं। वह विश्व कनिष्ठ बैडमिंटन चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय हैं। साइना नेहवाल 28 मार्च, 2015 को दुनिया की नंबर वन रैंकिंग हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई जब स्पेन की कैरोलिना मारिन यहां इंडिया ओपन सुपर सीरिज सेमीफाइनल में हार गईं।

  • साइना नेहवाल ने वर्ष 2005 में ‘एशियन सेटेलाइट बैडमिंटन जूनियर चेक ओपन’ का ख़िताब जीता।
  • साइना नेहवाल दो बार सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में रनर-अप रहीं।
  • 2005 में राष्ट्रमंडल युवा खेलों की स्पर्धा में उन्होंने सात पदक जीतने में सफलता प्राप्त की।
  • साइना नेहवाल ने 2006 में ‘एशि‍यन सैटलाइट चैंपि‍यनशि‍प’ जीती।
  • 2006 में मनीला में ‘फिलीपिंस ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप’ जीत कर इतिहास रच डाला।
  • साइना का नाम विश्व इतिहास में 21 जून, 2009 को लिखा गया, जब उन्होंने ‘इंडोनेशियाई ओपन’ जीतते हुए ‘सुपर सीरिज बैडमिंटन टूर्नामेंट’ का खिताब अपने नाम किया। यह उपलब्धि उनसे पहले किसी अन्य भारतीय महिला को हासिल नहीं हुई।
  • 2010 में ऑल इंग्लैड बैंडमिटन के सेमीफाइनल में पहुँचने वाली पहली भारतीय महिला होने का गौरव प्राप्त किया। उसके बाद चीन के ‘लिन वांग’ को जकार्ता में हराकर ‘सुपर सीरीज़ टूर्नामेंट’ जीता।
  • साइना अब तक तीन बार (2009, 2010 और 2012) इंडोनेशिया ओपन टूर्नामेंट जीत चुकी हैं।
  • साइना नेहवाल ओलम्पिक 2012 में कांस्य पदक जीतने वाली पहली भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बनीं।
  • 2012 में साइना नेहवाल ने डेनमार्क ओपन खिताब जीता।

साइना नेहवाल
लंदन ओलंपिक 2012

  • अर्जुन पुरस्कार (2009)
  • राजीव गाँधी खेल रत्न (2009–2010)
  • पद्म श्री (2010)
  • पद्म भूषण (2016)

Leave a Reply