सीवान में यूसूफ हत्याकांड के गवाह श्यामबाबू उर्फ जावेद मियां की गोलीमार कर हत्या

सीवान में यूसूफ हत्याकांड के गवाह श्यामबाबू उर्फ जावेद मियां की गोलीमार कर हत्या

श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क

सीवान के रामराज मोड़ के पास बुधवार को बाइक सवार अपराधियों ने मुर्गा व्यवसाई की गोली मार हत्या कर दी है। मृतक रामराज मोड़ निवासी स्व. लालबाबू मियां का पुत्र श्यामबाबू उर्फ जावेद मियां है।

घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि शाम करीब पांच बजे श्यामबाबू घर के पास स्थित अपने मुर्गा के दुकान पर बैठा था। उसी वक्त बाइक सवार अपराधियों ने श्यामबाबू को गोली मार दी। गोली लगते ही श्याम बाबू गिर पड़ा। इसके बाद हवाई फायरिंग करते हुए अपराधी मौके से फरार हो गए। स्थानीय लोगों की मदद से आनन-फानन में परिजन श्यामबाबू को लेकर सदर अस्पताल पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि श्यामबाबू उर्फ जावेद मियां पिछले दिनों शहाबुद्दीन के करीबी यूसूफ की हत्या में गवाह था। इसे लेकर भी हत्या की घटना को अंजाम दिया जा सकता है। पुलिस घटना से जुड़ी हर पहलु की जांच में जुटी हुई है। बता दे कि यूसूफ जेल में बंद पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन का करीबी था। बताया जा रहा है कि पूर्व में भी दो बार श्यामबाबू के घर पर अपराधियों ने गोली चलाई थी। इसे लेकर परिजनों ने टाउन थाने में लिखित शिकायत करते हुए सुरक्षा की गुहार लगाई थी। इसी बात को लेकर अपराधी खार खाए हुए थे। आखिरकार उन्होंने श्यामबाबू की गोली मार हत्या कर दी।

घटनास्थल पर रहे प्रत्क्षदर्शियों का कहना है कि श्यामबाबू अपने घर से थोड़ी ही देर पहले दुकान पर पहुंचे थे। तभी स्टेशन की तरफ से बाइक पर सवार तीन युवक दुकान के पास पहुंचे और उनपर गोलियां चलानी शुरू कर दी। बताया जा रहा है कि पास आते ही उन्होंने एक अपराधी को पहचान लिया। इसके बाद वे अपनी जान बचाने के लिए दुकान के पीछे छिपने की कोशिश की। इसी बीच अपराधियों की गोली पीछे से उनकी गर्दन को भेदते हुए आगे से निकल गई। घटना के बाद वहां भगदड़ मच गई। लोग इधर-उधर भागने लगे।

बताया जा रहा है कि घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी जिप्सी कैफे की तरफ हवाई फायरिंग करते हुए भाग निकले। इधर घटना की जानकारी मिलते ही नगर इंस्पेक्टर जयप्रकाश पंडित दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे।

घटना की सूचना मिलते ही एएसपी कांतेश कुमार मिश्र घटनास्थल पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली. लोगों की अधिक भीड़ को देखते हुये पुलिस प्रशासन ने सदर अस्पताल को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया.परिजनों ने बताया क इसके पहले दो बार अपराधियों द्वारा श्याम बाबू पर जानलेवा हमला किया था. दोनों हमलों में श्याम बाबू बाल-बाल बच गया था. नगर इंस्पेक्टर जय प्रकाश पंडित, मुफस्सिल थानाध्यक्ष धर्मेंद्र कुमार, महादेवा ओपी प्रभारी पंकज कुमार ठाकुर सदर अस्पताल पर पहुंचकर पोस्टमार्टम कराने की प्रक्रिया में जुट गये.

क्या कहते हैं एसपी
सीवान एसपी एनसी झा ने कहा कि अपराधियों की गिरफ्तार करने के लिए टीम का गठन कर दिया गया है। पहचान कर ली गई है। जल्द सभी को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

आभार- हिंदुस्तान

Leave a Reply