कोरोना के कारण महाभारत कालीन तीर्थ स्थल कुंतेश्वर धाम में मंदिर के कपाट बंद होने के कारण सन्नाटा पसरा 

कोरोना के कारण महाभारत कालीन तीर्थ स्थल कुंतेश्वर धाम में मंदिर के कपाट बंद होने के कारण सन्नाटा पसरा

श्रीनारद मीडिया‚ लक्ष्मण सिंह‚  सिरौलीगौसपुर बाराबंकी (यूपी):

सावन मास के प्रथम सोमवार पर क्षेत्र के विभिन्न गांवों व कस्बों के शिवालयों में शिव भक्तों ने विधि विधान पूर्वक त्रिनेत्र धारी भगवान शिव की वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पूजा अर्चना किया वहीं महाभारत कालीन तीर्थ स्थल कुंतेश्वर धाम में मंदिर के कपाट बंद होने के कारण सन्नाटा पसरा हुआ दिखाई दिया ।

देवाधिदेव महादेव के प्रिय मास सावन मास के प्रथम सोमवार को माता कुंती द्वारा स्थापित अद्भुत शिवलिंग कुंतेश्वर धाम में मंदिर के कपाट बंद होने के चलते सुबह से ही मंदिर परिसर में सन्नाटा पसरा हुआ दिखाई दिया लोगों में इस बात की जन चर्चाएं होती रही कि सावन मास के प्रत्येक सोमवार पर इससे पूर्व आराध्य देव भगवान शिव के अद्भुत शिवलिंग का जलाभिषेक व रुद्राभिषेक करने वाले श्रद्धालुओं की उमड़ने वाली भीड़ हजारों की संख्या में हो जाती थी परंतु इस बार मंदिर के कपाट बंद होने के कारण श्रद्धालुओं को बैरंग वापस होना पड़ रहा है वही मंदिर के पुजारी लोगों से घरों में ही पूजा अर्चना करने की अपील करते हुए देखे गए ।

 

सावन मास के प्रथम सोमवार पर क्षेत्र के बदोसराय मरकामऊ पूर्ड़ेश्वर मंदिर कटका बरदरी मेलारायगंज सैदनपुर किंतुर सिरौली गौसपुर समेत पूरे तहसील क्षेत्र के शिवालयों में श्रद्धालुओं ने दूध फल फूल बेलपत्र चावल मिष्ठान आदि के साथ जलाभिषेक व रुद्राभिषेक करके पूजा अर्चना किया वही सौभाग्यवती स्त्रियों ने सुहाग की देवी मां पार्वती की प्रतिमा को अपनी सुहाग सूचक सिंदूर बिंदी चूड़ी कंठहार व धानी चुनरिया भेट कर के अपने सुहाग की लंबी उम्र की कामना किया ।

Leave a Reply