पंचवर्षीय विधि संस्थान के कानूनी जागरूकता प्रकोष्ठ की विवरणिका (ब्रॉशर) का कुलपति ने किया विमोचन

पंचवर्षीय विधि संस्थान के कानूनी जागरूकता प्रकोष्ठ की विवरणिका (ब्रॉशर) का कुलपति ने किया विमोचन।

श्रीनारद मीडिया , प्रभारी हरियाणा डेस्क – वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया – सुकान्त पण्डित )

कुरुक्षेत्र 16 अप्रैल :- कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के पंचवर्षीय विधि संस्थान के कानूनी जागरूकता प्रकोष्ठ की विवरणिका (ब्रॉशर) का विमोचन कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. कैलाश चन्द्र शर्मा ने किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि विद्यार्थी जीवन में हर परिस्थिति से अनुभव लेना बेहद महत्वपूर्ण है। आज भी समाज में एक तबका ऐसा है जो बुनयादी जरूरतों से वंचित है और इन्हें ही कानूनी जागरूकता की आवश्यकता सबसे ज्यादा हैं। चूंकि युवा देश का भविष्य है तो यह निर्विवाद रूप से जरूरी है कि समाज का सच्चा दर्पण उन्हें देखने को मिले। पीडि़तों, शोषितों व वंचितों के हक के लिए काम करना किसी भी शिक्षित व्यक्ति का राष्ट्र के प्रति कर्तव्य बनता है।
उन्होंने कहा कि विधि संस्थान के इस प्रकल्प से विद्यार्थियों को समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी का बोध कराने में सहायता मिलती है। आज की इस चकाचौंध भरी दुनिया में भी नागरिकों को अपने कर्तव्य, अपने दायित्व नहीं भूलने चाहिए। कुलपति ने इस अवसर पर संस्थान के निदेशक व संस्थान के शिक्षक, गैर शिक्षक कर्मी व विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की।
संस्थान के निदेशक प्रो. राजपाल शर्मा ने इस अवसर पर बताया कि गत एक दशक से विधि संस्थान में कानूनी जागरूकता प्रकोष्ठ गरीब व कमजोर वर्ग को मुफत एवं सक्षम सहायता एवं जागरूकता के प्रतिबद्ध है। हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण पंचकूला एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कुरुक्षेत्र के तत्वाधान में यह प्रकोष्ठ कुरुक्षेत्र जिले के लगभग सभी ब्लाकों में कानूनी जागरूकता शिविरों के माध्यम से जागरूकता फैलाने का काम कर रहा है।
कार्यक्रम की संयोजिका डॉ. कृष्णा अग्रवाल ने बताया कि कानूनी जागरूकता शिविरों के अलावा नियमित रूप से समय-समय पर सामाजिक विषयों पर अभियान, कार्यशालाएं, टी. वी. व रेडियो के माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जातें हैं।
इसके अलावा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कुरुक्षेत्र के तत्वाधान में संस्थान के करीब 35 विद्यार्थी पी. एल. वी. की भूमिका में कार्यरत हैं। उन्होंने कहा कि विधि संस्थान अपने विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास हेतु प्रतिबद्ध है। डॉ. अग्रवाल ने इस अवसर पर कुलपति व केयू प्रशासन का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply