दुनिया का अकेला मंदिर जहां है गणेशजी का पूरा परिवार…रिद्धी-सिद्धी के साथ बेटी, दोनों पुत्र और दोनों पोते

दुनिया का अकेला मंदिर जहां है गणेशजी का पूरा परिवार…रिद्धी-सिद्धी के साथ बेटी, दोनों पुत्र और दोनों पोते

श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क

प्रथम पूज्य गणेशजी के दुनिया में कई मंदिर हैं। दोनों पत्नियों, रिद्धि और सिद्धी के साथ वाली भी उनकी कई प्रतिमाएं हैं, लेकिन गुजरात में एक मंदिर ऐसा है, जहां उनका पूरा परिवार है। पूरा परिवार यानि दोनों पत्नियां- रिद्धि-सिद्धी, पुत्री- मां संतोषी, दोनों पुत्र – शुभ और लाभ, दोनों पोते – क्षेम और कुशल। जानिए इनके बारे में –

गुजरात के बनासकांठा जिले में अम्बाजी तीर्थ है। यहां मां अम्बा का भव्य प्राचीन मंदिर है। इसी मंदिर के परिसर में स्थित है सहकुटुंब सिद्धि विनायक मंदिर। यहां गणेशजी अपने पूरे परिवार के साथ विराजे हैं। मंदिर के पुजारी मुकेश भाई के मुताबिक, यह दुनिया में इकलौता मंदिर है, जहां गणेशजी की सहकुटुंब पूजा होती है।

ऐसा है गणेशजी का पूरा परिवार

WhatsApp Image 2020-07-09 at 15.09.10
website ads
WhatsApp Image 2021-10-09 at 07.44.49
1
mira devi
rameshwar singh
meghnath prasad
arbind singh
kiran devi
WhatsApp Image 2021-10-25 at 06.46.32
previous arrow
next arrow
WhatsApp Image 2020-07-09 at 15.09.10
website ads
WhatsApp Image 2021-10-09 at 07.44.49
1
mira devi
rameshwar singh
meghnath prasad
arbind singh
kiran devi
WhatsApp Image 2021-10-25 at 06.46.32
previous arrow
next arrow

शास्त्रों में उल्लेख है कि भगवान गणेश का शरीर विशालकाय और मुंह की जगह हाथी का मुख लगा हुआ था तो कोई कन्या उनसे विवाह को तैयार न थी। इस पर भगवान गणेश बिगड़ गये और अपने वाहन मूषक को समस्त देवी-देवताओं के विवाह में विघ्न डालने का आदेश दिया।

अब जहां भी विवाह होता, वहां मूषक पहुंच जाते और विघ्न डाल देते। तंग आकर देवताओं ने भगवान ब्रह्मा से कोई उपाय करने की गुहार लगाई तब ब्रह्मा ने दो कन्याओं, रिद्धि और सिद्धी का सृजन किया और गणेशजी से उनका विवाह करवाया। इस तरह बुद्धि और विवेक की देवी रिद्धि और सफलता की देवी सिद्धी का विवाह गणेश जी से हुआ जिनसे शुभ और लाभ नामक दो पुत्र भी हुए।

धर्म ग्रंथों में कहीं-कहीं मां संतोषी को गणेशजी की बेटी बताया गया है, जिसका प्रमाण यहां मिलता है। साथ ही गणेशजी के दो पोते – क्षेमे और कुशल भी यहां विराजे हैं।

Rajesh Pandey

Leave a Reply

Next Post

शिक्षाविदों को राजनेता बनने के बदले समाजनीतिज्ञ बनना चाहिए.

Wed Jan 2 , 2019
शिक्षाविदों को राजनेता बनने के बदले समाजनीतिज्ञ बनना चाहिए. श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क यह बात लगभग सर्वमान्य है कि प्राचीन भारत में राजा गुरुकुल तक जाने के लिए न केवल अपने अंगरक्षकों को दूर ही रोक देते थे, बल्कि रथ भी वहीं छोड़ आते थे. राजसत्ता से चाणक्य के संबंधों […]

Breaking News

error: Content is protected !!