Varuna 2019: बंदरगाह पर अभ्यास के बाद गोवा तट पर भारत-फ्रांस नौसेना का युद्धाभ्यास शुरू

Varuna 2019: बंदरगाह पर अभ्यास के बाद गोवा तट पर भारत-फ्रांस नौसेना का युद्धाभ्यास शुरू

श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क

भारत और फ्रांस की नौसेना के संयुक्त युद्धाभ्यास ‘वरुण’ के अगले चरण की शुरुआत बुधवार को गोवा तट के पास समुद्र में हुई। भारतीय नौसेना ने बताया कि संयुक्त युद्धाभ्यास में भाग लेने के लिए गोवा बंदरगाह से फ्रांस के विमानवाहक पोत समुद्र में उतरे।

इससे पहले, एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गोवा तट पर चल रहा भारत-फ्रांस संयुक्त युद्धाभ्यास दोनों देशों की नौसेना का अब तक सबसे बड़ा साझा अभ्यास है। अधिकारी ने यह भी कहा कि यह युद्धाभ्यास दोनों देशों के मजबूत समुद्री सहयोग के चरमोत्कर्ष को प्रदर्शित करता है।

भारतीय नौसेना ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि गोवा के मोरमुगाओ पोर्ट ट्रस्ट पर ‘वरुण 2019’ के बंदरगाह चरण के सार्थक अभ्यास के बाद समुद्री चरण के लिए फ्रांसीसी नौसेना के विमानवाहक पोत तटवर्ती राज्य से समुद्र में आ गए हैं।

पहले चरण में बंदरगाह पर अभ्यास हुआ
दोनों देशों की नौसेना का संयुक्त युद्धाभ्यास एक मई से शुरू हुआ था, जो 10 मई तक चलेगा। पहले चरण में बंदरगाह पर अभ्यास हुआ। उसके बाद अब समुद्री युद्धाभ्यास में अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने के लिए दोनों नौसेना के युद्धपोत और पनडुब्बियां सागर में उतर गई हैं। फ्रांस की तरफ से विमानवाहक पोत चा‌र्ल्स डी गाला, एफएन पोत फ्रोवेंस, ला टच ट्रेविले, फॉर्बिन और टैंकर मर्ने के साथ ही एफएन पनडुब्बी भारतीय नौसेना के साथ युद्धाभ्यास में हिस्सा ले रही है।

इस वजह से वरुण नाम दिया गया
भारत की तरफ से पोत चेन्नई, मुंबई, तरकश, टैंकर आइएनएस दीपक और एक पनडुब्बी युद्धाभ्यास में हिस्सेदारी कर रही है। दोनों नौसेनाओं ने बुधवार को हवा से हवा में युद्ध, वायु सुरक्षा, पनडुब्बी रोधी अभ्यास और सतह पर मार करने वाली क्षमता का अभ्यास किया। आपको बता दें कि भारत और फ्रांस की नौसेना के बीच 1983 में पहली बार संयुक्त युद्धाभ्यास शुरू हुआ था। इस साझा युद्धाभ्यास को 2001 में ‘वरुण’ नाम दिया गया।

Leave a Reply