वर्षाऋतु  में क्या हो आपका आहार विहार ?  इसपर रखे विशेष ध्यान 

वर्षाऋतु  में क्या हो आपका आहार विहार ?  इसपर रखे विशेष ध्यान

वात और कफ  की वृद्धि कहीं  आपको परेशान न कर दे

आलेख :  डॉ  अनुपम आदित्य, एम डी

श्रीनारद मीडिया, सेंट्रल डेस्क :

इस वर्ष 6 जुलाई 2020 से #श्रावण मास यानि  वर्षाऋतु प्रारम्भ होने जा रही है. वर्षाऋतुचर्या  वर्षा ऋतु में क्या  आहारविहार हो इसका ध्यान रखे..तथा क्या और क्यों – वर्षाऋतु में नहीं खाना चाहिए?
हर मौसम में कई खाद्य हानि कारक होते हें पर अक्सर कुछ लोग कहते सुने जाते हें की “वे तो खाते हें उन्हें कुछ नहीं होता”
बारिश के मोसम में #पत्तेवाली #सब्जियां और विशेष रूप से जो सीधे जमींन पर लगतीं हें जैसे पालक, मेथी आदि, नहीं खाना चाहिए|
चूँकि #बरसात का पानी खेतों में भर जाया करता है, इससे बहुत तरह के कीट उन्हें अपना आश्रय बना लेते हें, इसी मोसम में कीट पतंगों का प्रजनन काल या ब्रीडिंग सीजन होता है वे इनमें अपने अंडे, लार्वा आदि रखते हें|
कीट पंतंगों लार्वा अण्डों से भरी सब्जी खाना हानिकारक होगा ही, यदि किसान इन से बचने के लिए कीटनाशक दवा का छिडकाव करते हैं, जो बार बार और अधिक मात्रा में (पानी से धुल जाने के कारण) करना होती है, इससे ये रसायन मिटटी में गिर कर पोधों की जड़ों से सोखे जाकर सब्जियों में अन्दर तक समा जाया करते हैं, और आसानी से धोने , उबलने आदी से भी नहीं निकल पाते, और शरीर में पहुंचकर #कैन्सर जेसे रोग तक बना सकते हें|
#वर्षा में #वात की स्वभाविक #प्रकोप और कफ वृद्धि होती है, वीर्य हीन (शक्ति हीन) सब्जियां जो समय बढ रही होती है ताकि पूर्ण परिपक्वता के बाद अच्छे बीज को जन्म दे सकें, इस वात को बढ़ने में सहयक होती है|
वात बढ़ने से शरीर / जोड़, आदि में दर्द, पेट की खराबी और कफ दोष के कारण श्वास, कास (खांसी), वाइरल, सर्दी जुकाम, होता है जो आगे बढकर साइनसाइटीस, ब्रोंकाइटिस, टोसिलाइटिस, अस्थमा, आदि आदि जैसे रोग का कारण भी होती है|
वात और कफ दोष के लिए पत्ते वाली सब्जी के अतिरिक्त दही, पकोड़ा-पकोड़ी, दूध मलाई, और स्ट्रीट फ़ूड अत्यंत हानि कारक होता है|
जब कुछ लोग कहते सुने जाते हें की “वे तो खाते हें उन्हें कुछ नहीं होता”
होता यह भी यह भी सही है पर उन्हें “कुछ” क्यों नहीं होता?
अधिकतर ऐसे लोग युवा होते हैं उनकी रोग प्रतिरोधक शक्ति अच्छी होती है जो रोगों कीटाणु के विरुद्ध लड़कर उन्हें नष्ट करती रहती है|
परन्तु इसकी भी एक सीमा होती है, अधिक आयु होने पर या अधिक संक्रमण होने पर, जीवन चर्या (खान-पान, सोना- जागना, व्यायाम आदि) ठीक न होने, दंत मुहं नाक गला आदि की सफाई ठीक से न करने पर, शरीर पर कई रोग एक साथ होने पर, या कुछ जन्मजात कारणों से, देर-सबेर उन्हें भी इसका परिणाम भोगना ही पड़ सकता है|
#VarshaRitu chraya – #Rainy season

🙏
डॉ अनुपम आदित्य
एम डी
सिवान
☎️8084071830

Leave a Reply