क्राइम

टेक्नीशियन स्टूडेंट बन गया मोबाइल लुटेरा

टेक्नीशियन स्टूडेंट बन गया मोबाइल लुटेरा

बिहार से नौकरी की तलाश में आए दोस्तों संग बनाई गैंग

website ads
WhatsApp Image 2022-12-28 at 17.44.51
1
३५
२१
previous arrow
next arrow
website ads
WhatsApp Image 2022-12-28 at 17.44.51
1
३५
२१
९
८
७
previous arrow
next arrow

श्रीनारद मीडिया, इंदौर (‍एमपी):

मध्‍य प्रदेश के इंदौर में अलग-अलग इलाकों में घूमकर लूट की वारदात करने वाले चार आरोपियों को क्राइम ब्रांच ने पकड़ा है। पकड़े गए लुटेरों में से एक इंदौर के निजी मेडिकल कॉलेज से टेक्नीशियन की पढ़ाई कर रहा है। बताया जाता है कि उसके यहां आए तीन दोस्तों को रोजगार नहीं मिला तो चारों मिलकर लूटपाट करने लगे। पुलिस अब पकड़े गए आरोपियों से बिहार के बक्सर में किए गए अपराधों की जानकारी भी निकाल रही है। नशा और खर्च पूरे करने के लिए करने लगे मोबाइल लूट…

क्राइम ब्रांच ने चार बदमाशों राजकुमार उपाध्याय, रितेश उपाध्याय, रिंकू सिंह और प्रवीण भाले राव है। आरोपियों को फिलहाल भंवरकुआं पुलिस के सुपुर्द किया गया है। गैंग के पास से लूट के करीब आठ मोबाइल बरामद हुए है। अन्य वारदातों को लेकर अभी पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

स्टूडेंट दोस्त के पास आकर रुके थे

पुलिस के मुताबिक राजकुमार, रितेश और रिंकू तीनों बक्सर बिहार के रहने वाले है। राजकुमार और रितेश कुछ दिन पहले ही रिंकू के पास आकर रुके थे। दोनों यहां नौकरी के लिए आए थे। लेकिन उन्हें यहां काम नही मिला। रिंकू की प्रवीण से पुरानी जान-पहचान है। कभी-कभी वह इसके साथ नशा करता था। राजकुमार और रितेश ने पहले भंवर कुआं इलाके में 8 जनवरी के आसपास लूट की। सक्सेस होने पर वह और वारदात करने लगे। रिंकू अरबिंदो मेडिकल कॉलेज में टेक्नीशियन का कोर्स कर रहा है।

ग्वाल टोली और आजाद नगर में वारदात

पकड़ाए आरोपियों ने ग्वाल टोली और आजाद नगर इलाके में भी लूट की वारदातों को अंजाम दिया था। आरोपियों से यहां की गई लूट के माल की बरामदगी कर ली गई है। पुलिस के मुताबिक प्रवीण की निशानदेही पर ड्रग्स सप्लायर्स की भी जानकारी जुटाई गई है। जिन पर जल्द कार्रवाई की जाएगी। इधर पुलिस ने बक्सर पुलिस से संपर्क किया है। राजकुमार और रितेश के अपराधों को लेकर भी जानकारी जुटाई जा रही है।

यह भी पढ़े

मैट्रिक परीक्षा के एडमिट कार्ड वितरण में अवैध पैसा वसूली का छात्रों ने विरोध कर किया प्रदर्शन

कैलेंडर’ शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

राधामोहन चौबे ‘ अंजन ‘ : स्मृति शेष – गंवई लोक के गीतकार

डॉ. विद्यानिवास मिश्र:हिंदी और संस्कृत के प्रकांड विद्वान व साहित्यकार

ब्रजकिशोर बाबू के प्रति श्रद्धा से रोशन थी वह शाम!

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!