खबरे जरा हट केसारण

सारण  मशरक  का लाल  रवि प्रताप आर्मी इन्फेंट्री में  बना कर्नल

सारण  मशरक  का लाल  रवि प्रताप आर्मी इन्फेंट्री में  बना कर्नल

परिजनों एवम गांव में जश्न का माहौल

website ads
6
24
previous arrow
next arrow
website ads
6
24
previous arrow
next arrow

श्रीनारद मीडिया, विक्‍की बाबा, मशरक, सारण (बिहार):

सारण के मशरक प्रखंड  क्षेत्र के बहरौली गांव निवासी आर्मी मैन उदय प्रताप सिंह एवम गृहणी सुशीला सिंह का छोटा पुत्र रवि प्रताप सिंह आर्मी इन्फेंट्री कोर में कर्नल के पद पर प्रोन्नत हुआ है।

असम के डिब्रूगढ़ में आयोजित समारोह में आर्मी के वरीय पदाधिकारियों की मौजूदगी में मशरक के इस लाल को मां पिता ने कर्नल का बैज लगाया। बहरौली पंचायत के मुखिया अजीत सिंह के भतीजा रवि प्रताप सिंह के कर्नल बनने पर परिजनो सहित पूरे इलाके में जश्न का माहौल है।

तीन भाई एवम एक बहन में छोटे रवि प्रताप ने देश सेवा के जज्बे के साथ एनडीए के बाद भोपाल में लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर बहाल होकर साउथ कोरिया में ग्रुप ट्रेनिंग में भाग लिया। फिर अपने लगन और निष्ठा के साथ काम करते हुए 35 वर्ष के उम्र में ही कर्नल के पद का सफर पूरा किया।

कर्नल रवि प्रताप के एक बड़े भाई सेना में जेसीओ तो दूसरे रिलायंस ग्रुप में कार्यरत है जबकि पत्नी वैदेही सिंह साथ रहती है। पिता ने सेना से अवकाश ग्रहण किया है। रवि प्रताप सिंह के कर्नल बनने पर चाचा मुखिया अजीत सिंह , मशरक के कर्णकुदरिया गांव निवासी मामा ललन सिंह , जे के सिंह , विधान पार्षद सच्चिदानंद राय, पूर्व प्रखंड मुखिया संघ अध्यक्ष प्रतिनिधि अमर सिंह ,प्रखंड प्रमुख रवि प्रकाश सिंह मंटू, पूर्व उप प्रमुख साहेब हुसैन उर्फ टुनटुन , जिला हैंडबॉल सचिव संजय कुमार सिंह , आर्मी कैंटीन संचालक रंजन कुमार सिंह, वार्ड संघ उपाध्यक्ष मुकेश ओझा, नगर लोजपा अध्यक्ष मुकेश सिंह , प्रिंस बाबा , राजीव सिंह उर्फ गुड्डू सिंह सहित अन्य ने बधाई दी है ।

यह भी पढ़े

मशरक की खबरें :   पिकअप वैन में 69 कार्टून स्‍प्रीट के साथ एक गिरफ्तार 

बिहार में शुरू हुई ‘बहाली’ की राजनीति,क्यों?

सड़क दुर्घटनाओं में युवा होते हैं सबसे अधिक शिकार,क्यों?

जामो पुलिस ने हत्यारिन मौसी सहित दो किया गिरफ्तार

माधव सिंह निर्विरोध चुने गये जदयू प्रखंड अध्यक्ष सीवान।

पत्रकारिता की विश्वसनीयता बनाये रखना पत्रकारों का दायित्व,मुम्बई की महिला पत्रकारों का पराड़कर स्मृति भवन आगमन

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!