अन्य जिलेबिहार

गर्भवती महिलाओं को मिली पोषण की पोटली, पोषणयुक्त पदार्थों के सेवन करने की दी गई जानकारी 

गर्भवती महिलाओं को मिली पोषण की पोटली, पोषणयुक्त पदार्थों के सेवन करने की दी गई जानकारी

जिलेभर में गोदभराई दिवस का हुआ आयोजन:
गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वस्थ के लिए महिलाओं को दी गई जरूरी जानकारी:
नियमित चिकित्सक के संपर्क में रहने की दी गई सलाह:
जन्म के बाद छः महीने तक शिशु को कराएं स्तनपान:

website ads
WhatsApp Image 2022-12-28 at 17.44.51
1
३५
२१
previous arrow
next arrow
website ads
WhatsApp Image 2022-12-28 at 17.44.51
1
३५
२१
९
८
७
previous arrow
next arrow

श्रीनारद मीडिया, कटिहार(बिहार):


समेकित बाल विकास परियोजना द्वारा हर माह की तरह इस माह भी 07 तारीख को आंगनबड़ी केंद्रों पर क्षेत्र की गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान बेहतर खान-पान व नियमित तौर से चिकित्सक से जांच के लिए गोदभराई दिवस का आयोजन किया गया। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को पोषण युक्त पोटली देकर उन्हें गर्भावस्था के दौरान पोषणयुक्त पदार्थों के सेवन करने की जानकारी दी गई। आईसीडीएस जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (डीपीओ) किशलय शर्मा द्वारा कटिहार सदर प्रखंड के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 36, 164 एवं 169 का निरीक्षण कर वहां उपस्थित गर्भवती महिलाओं को पोषण की पोटली दी गई। इस दौरान कटिहार सदर सीडीपीओ लक्ष्मी कुमारी भी उपस्थित रहीं।

पोषण युक्त पोटली में गुड़, चना, हरी पत्तेदार सब्जियां, आयरन की गोलियां, फल आदि शामिल :
आंगनबाड़ी केंद्रों पर सेविकाओं द्वारा गर्भवती महिलाओं को पोषण युक्त पोटली देकर उन्हें अच्छे खानपान की जानकारी दी गई | जिससे कि गर्भवती महिला और उनके होने वाले बच्चे तंदुरुस्त पैदा हो। गर्भवती महिलाओं को दिए गए पोषण युक्त पोटली में गुड़, चना, हरी पत्तेदार सब्जियां, आयरन की गोलियां, फल आदि शामिल रहे।

गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ के लिए महिलाओं को दी गई जानकारी:
गोदभराई के दौरान क्षेत्र की सभी गर्भवती महिलाओं को गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए पोषण युक्त खानपान की जानकारी दी गई। आईसीडीएस डीपीओ किशलय शर्मा ने कहा कि सभी गर्भवती महिलाएं और उसके होने वाले बच्चे स्वस्थ और सुरक्षित हों इसके लिए ही आईसीडीएस द्वारा हर माह आंगनबाड़ी केंद्रों पर गोदभराई दिवस का आयोजन किया जाता है। इस दौरान क्षेत्र की नई गर्भवती महिलाओं को चुनरी ओढ़ाकर और टीका लगाकर शुभकामनाएं दी जाती है। इसके साथ ही महिला को पोषणयुक्त पोटली देकर गर्भावस्था के दौरान जरूरी खानपान और सावधानियों की भी जानकारी दी जाती है। डीपीओ ने कहा गोदभराई के माध्यम से सभी आंगनबाड़ी सेविकाएं अपने क्षेत्र की महिलाओं को पूरे नौ महीने के गर्भकाल में पोषणयुक्त पोषाहार जैसे ताजे फल, हरी सब्जियां आदि खाने की जानकारी देने के साथ नियमित स्वस्थ जांच का भी संदेश देती है, जिससे कि गर्भवती महिला और उसके होने वाले बच्चे सुरक्षित एवं स्वस्थ रह सके।

जन्म के बाद छः महीने तक शिशु को कराएं स्तनपान :
आंगनबाड़ी केंद्रों पर गोदभराई दिवस का आयोजन कर गर्भवती महिलाओं को मां और होने वाले बच्चे दोनों को स्वस्थ रखने की जानकारी गई। सभी गर्भवती महिलाओं को अपने होने वाले बच्चे का जन्म अस्पताल में ही कराने का संदेश दिया गया। उन्हें बताया गया कि अस्पताल में चिकित्सक की निगरानी में जन्म होने से मां और बच्चे दोनों स्वस्थ और सुरक्षित रहेंगे। बच्चे के जन्म के एक घंटे के अंदर ही उसे मां के दूध का सेवन कराना चाहिए, जो मां और बच्चे दोनों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। जन्म के बाद छः महीने तक बच्चे को केवल मां का ही दूध देना चाहिए। इससे बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास होता है, और उसे बेहतरीन ऊर्जा मिलती है।

नियमित चिकित्सक के संपर्क में रहने की दी गई सलाह :
कटिहार सदर सीडीपीओ लक्ष्मी कुमारी ने कहा कि सभी गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था की पुष्टि के बाद से ही चिकित्सकों के संपर्क में रहना चाहिए और नियमित रूप से अपना चेकअप कराते रहना चाहिए। गर्भावस्था के आखिरी महीनों में महिलाओं को अधिक पोषक तत्व की जरूरत होती है। इसलिए उन्हें अपने आहार में प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट के साथ वसा की मात्रा का ध्यान रखना चाहिए। इसके साथ ही सभी को गर्भावस्था के साथ मिल रहे सरकारी सहायता जैसे प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना, जननी सुरक्षा योजना, मातृ शिशु सुरक्षा कार्ड आदि की जानकारी रखते हुए इसका लाभ उठाना चाहिए। महिलाओं को आंगनबाड़ी सेविकाओं से प्रसव पूर्व देखभाल, एनीमिया की रोकथाम आदि की भी जानकारी लेकर उसके लिए सतर्क रहना चाहिए, ताकि वह और होने वाले बच्चे दोनों स्वास्थ्य रहें।

यह भी पढ़े

सिधवलिया की खबरें : दुराचार मामले में फरार आरोपित गिरफ्तार

भगवानपुर हाट की खबरें : सीओ ने महमदपुर पंचायत के कई संस्थानों का  कियाऔचक निरीक्षण

कार्यकर्ताओ को मान सम्मान देना पहली प्राथमिकता : अल्ताफ 

मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने को लेकर कायाकल्प, लक्ष्य एवं एनक्वास प्रमाणीकरण जरूरी

डॉ भीम राव अम्बेडकर के 67 परिनिर्वान दिवस मनाया गया

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!