किसी खास को गले लगाने पर क्यों होती है गुदगुदी?

किसी खास को गले लगाने पर क्यों होती है गुदगुदी?

श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क

इस वर्ष का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिकों डेविड जूलियस और आर्डम पातापुतियन को दिए जाने का ऐलान हो गया है। इन दोनों ने  दुनिया को बता दिया है कि इंसान का जिस्म सूरज की गर्मी और अपनों को स्पर्श करने पर कैसे महसूस करता है। उनकी इस खोज के  जरिए वैज्ञानिक हमारे शरीर के किसी खास हिस्से में होने वाले दर्द की दवा खोज सकते हैं।

PunjabKesari

दोनों वैज्ञानिकों का अध्ययन ‘सोमैटोसेंसेशन’ क्षेत्र पर केंद्रित था जो आंख, कान और त्वचा जैसे विशेष अंगों की क्षमता से संबंधित है। नोबेल समिति के महासचिव थॉमस पर्लमैन ने इन विजेताओं के नामों की घोषणा करते हुए कहा कि इस खोज से  वास्तव में प्रकृति के रहस्यों में से एक का खुलासा होता है… यह वास्तव में ऐसा कुछ है जो हमारे अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए यह एक बहुत ही अहम और गहन खोज है।”

PunjabKesari
दरअसल यह तो हम सब जानते हैं कि आग को छूने से हमारी उंगलियां जल जाएंगी लेकिन हमें यह नहीं मालूम कि ऐसा क्यों होता है। इस रहस्य को खोजने के बाद पता चलेगा कि शरीर के किसी खास हिस्से में होने वाले दर्द के लिए खास तरह की दवा विकसित की जा सकती है। इस जानकारी को गंभीर दर्द समेत की बीमारियों का इलाज तलाशने में इस्तेमाल किया जा सकता है।

WhatsApp Image 2020-07-09 at 15.09.10
website ads
WhatsApp Image 2021-10-09 at 07.44.49
1
mira devi
rameshwar singh
meghnath prasad
arbind singh
kiran devi
WhatsApp Image 2021-10-25 at 06.46.32
previous arrow
next arrow
WhatsApp Image 2020-07-09 at 15.09.10
website ads
WhatsApp Image 2021-10-09 at 07.44.49
1
mira devi
rameshwar singh
meghnath prasad
arbind singh
kiran devi
WhatsApp Image 2021-10-25 at 06.46.32
previous arrow
next arrow

PunjabKesari

नोबेल समिति के पैट्रिक अर्नफोर्स ने कहा कि कल्पना कीजिए कि आप गर्मी के मौसम में किसी दिन सुबह मैदान में नंगे पांव चल रहे हैं… आप सूरज की गर्मी, सुबह की ओस की ठंडक, हवा और अपने पैरों के नीचे घास को महसूस कर सकते हैं। तापमान, स्पर्श और हरकत के ये प्रभाव सोमैटोसेंसेशन पर निर्भर भावनाएं हैं।  उन्होंने कहा कि त्वचा और अन्य गहरे ऊतकों से इस तरह की सूचना लगातार निकलती है और हमें बाहरी और आंतरिक दुनिया से जोड़ती है। यह उन कार्यों के लिए भी आवश्यक है, जिन्हें हम सहजता से और बिना ज्यादा सोचे-समझे करते हैं।”

PunjabKesari

पिछले साल का पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों को दिया गया था, जिन्होंने लीवर को खराब करने वाले हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज की। वह ऐसी कामयाबी थी, जिससे घातक बीमारी के इलाज का रास्ता प्रशस्त हुआ और ब्लड बैंकों के माध्यम से इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिए परीक्षण किए गए। नोबेल पुरस्कार चिकित्सा के अलावा भौतिकी, रसायन विज्ञान, साहित्य, शांति और अर्थशास्त्र जैसे क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य के लिए दिए जाते हैं।

Rajesh Pandey

Leave a Reply

Next Post

मिसेज बिहार की प्रतिभागी रहीं मोना राय को मारी गोली, बेटी के सामने सनसनीखेज वारदात.

Wed Oct 13 , 2021
मिसेज बिहार की प्रतिभागी रहीं मोना राय को मारी गोली, बेटी के सामने सनसनीखेज वारदात. चाकू मारकर दो भाइयों की हत्या, जमीन विवाद में वारदात. श्रीनारद मीडिया सेंट्रल डेस्क मिसेज बिहार की प्रतिभागी रहीं आरती देवी उर्फ मोना राय को अपराधियों ने गोली मार दी है। वारदात पटना में राजीव […]

Breaking News

error: Content is protected !!